ताज़ा खबर
 

फांसी देने में सबसे आगे है चीन, इस्‍लामिक देशों में भी अपराधियों को मिलती है ये सजा

मृत्युदंड के मामलों में सर्वाधिक गिरावट बेलारूस में 50 फीसदी और मिस्र में 20 फीसदी हुई। हालांकि फिलिस्तीन में 2016 में तीन से 2017 में छह फीसदी, सिंगापुर में चार से आठ फीसदी और सोमालिया में 14 से 24 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई।

Author लंदन | April 12, 2018 9:35 PM
China, Execution, Execution in world, Execution rate, Execution in china, Execution in india, highest Execution, Execution stop, Execution report, Islamic Countries, Islamic Countries punishments, international newsप्रतीकात्मक फोटो।

दुनियाभर में मौत की सजा में कमी आने के बावजूद चीन अभी भी फांसी की सजा देने के मामले में शीर्ष पर है। मृत्युदंड पर गुरुवार को जारी एमनेस्टी इंटरनेशनल की वार्षिक रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने साल 2017 में 23 देशों में कम से कम 993 मृत्युदंड के मामले दर्ज किए जो साल 2016 के 1,032 मामलों से चार फीसदी और साल 2015 के 1,634 से 39 फीसदी कम थे। साल 2015 का आंकड़ा साल 1989 के बाद से शीर्ष पर था। चीन के अलावा, मृत्युदंड के कुल दर्ज मामलों के 84 फीसदी मामले मात्र चार देशों- ईरान, सऊदी अरब, इराक और पाकिस्तान में पाए गए। रिपोर्ट के अनुसार, बहरीन, जॉर्डन, कुवैत और संयुक्त अरब अमीरात ने मृत्युदंड की सजा साल 2017 में फिर से शुरू की।

मृत्युदंड के मामलों में सर्वाधिक गिरावट बेलारूस में 50 फीसदी और मिस्र में 20 फीसदी हुई। हालांकि फिलिस्तीन में 2016 में तीन से 2017 में छह फीसदी, सिंगापुर में चार से आठ फीसदी और सोमालिया में 14 से 24 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई। साल 2017 में गिनी और मंगोलिया में किसी भी तरह के अपराध के लिए मृत्युदंड की सजा खत्म कर दी। केन्या ने जहां हत्या के लिए मृत्युदंड की अनिवार्यता खत्म की, वहीं बुर्किनो फासो और चाड ने मृत्युदंड को खत्म करने वाले नए और प्रस्तावित नियम लागू करने के लिए प्रयास किए।

रिपोर्ट के अनुसार भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश और अमेरिका सहित 21 देशों में मृत्युदंड की सजा को कम करने या निरस्त करने के मामले देखे। संगठन ने साल 2017 में 53 देशों में मृत्युदंड के 2,591 मामले दर्ज किए जो साल 2016 में दर्ज हुए 3,117 मामलों से काफी कम हैं। दूसरी तरफ, चीन की अदालत ने गुरुवार को भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर पूर्व कृषि मंत्री सन झेंग्काई के खिलाफ मुकदमा शुरू किया है। ‘एफे’ के अनुसार, झेंग्काई (54) 13 फरवरी को राज्य अटार्नी कार्यालय के समक्ष रिश्वत और सत्ता का दुरुपयोग का आरोप स्वीकार किया था। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के भ्रष्टाचार-रोधी इकाई ने जुलाई 2017 में झेंग्केई के खिलाफ जांच शुरू की थी और सितंबर में उन्हें पार्टी से निष्कासित व कार्यालय से निकाल दिया गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मशहूर सिंगर के फैन ने बैंक लूट डाला, इम्‍प्रेस करने के लिए उसके घर पर लुटाया पैसा
2 बांग्लादेश में बड़ा फैसला, सरकारी नौकरियों में खत्म हुआ आरक्षण
3 एक और सेक्स स्कैंडल: अब पूर्व मिस यूनिवर्स का आरोप- संबंध बनाना चाहते थे डोनाल्ड ट्रंप
किसान आंदोलन LIVE:
X