ताज़ा खबर
 

‘सीपीईसी की सुरक्षा के लिए पाकिस्तान को मदद देगा चीन’

चीन के एक उच्च स्तरीय रक्षा अधिकारी ने कहा है कि चीन 46 अरब के आर्थिक गलियारे की महत्वाकांक्षी परियोजना की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पाकिस्तान को सहयोग देगा..
Author इस्लामाबाद | November 13, 2015 20:10 pm
चीन ने कहा, ‘‘कश्मीर के क्षेत्र के स्वामित्व का मुद्दा भारत और पाकिस्तान के बीच का है जिसका इतिहास है और इसका समाधान दोनों पक्षों के बीच बातचीत एवं विचार-विमर्श के माध्यम से होना चाहिए।’’

चीन के एक उच्च स्तरीय रक्षा अधिकारी ने कहा है कि चीन 46 अरब के आर्थिक गलियारे की महत्वाकांक्षी परियोजना की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पाकिस्तान को सहयोग देगा। इस परियोजना का उद्देश्य कम्युनिस्ट देश चीन को अरब सागर के रास्ते रणनीतिक लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण ग्वादर पत्तन से सीधे जोड़ना है। चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) एक महत्वपूर्ण आर्थिक परियोजना है, जो बीजिंग को पाकिस्तान के ग्वादर पोत के रास्ते पश्चिम एशिया, अफ्रीका और यूरोप तक ज्यादा पहुंच मुहैया करवाता है। इस परियोजना के तहत पाकिस्तान के पत्तन शहर ग्वादर को चीन के शिनजियांग स्थित काशगर शहर के साथ सड़कों और तेल पाइपलाइनों के एक जाल के जरिए जोड़ा जाएगा।

चीन के केंद्रीय सेना आयोग के उपाध्यक्ष फान चांगलोंग ने पाकिस्तान के सेना प्रमुख राहिल शरीफ से कहा, ‘हम सीपीईसी का पर्याप्त प्रबंधन एवं सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पाकिस्तान के साथ सहयोग का इंतजार कर रहे हैं।’

शुख्रवार को मुख्यालय में जनरल शरीफ के साथ बैठक में फान ने कहा, ‘‘चीन आतंकवाद से निपटने के क्षेत्र में और विभिन्न अन्य क्षेत्रों में सफल संचालन के लिए पाकिस्तानी सेना की प्रतिबद्धता की बेहद सराहना करता है।’’

सीपीईसी को चीन और पाकिस्तान दोनों के लिए ही एक समान रूप से लाभदायी बताते हुए फान ने कहा कि दोनो देश इसकी सतत प्रक्रिया और सफलता के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि सीपीईसी की सुरक्षा के लिए पाकिस्तानी सेना की ओर से किए जाने वाले प्रयास बेहद सराहनीय हैं।

फान ने कहा कि पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में बड़े बलिदान दिए हैं। सेना ने फान के हवाले से कहा, ‘‘चीन पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामी आंदोलन में लड़ने वाली पाकिस्तानी सेना के प्रयासों को महत्व देता है।’’

पाकिस्तान और चीन के बीच के रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग को रेखांकित करते हुए फान ने कहा, ‘चीन और पाकिस्तान एक-दूसरे के भाई, अच्छे दोस्त और रणनीतिक साझेदार हैं।’ उन्होंने यह भी कहा कि रक्षा क्षेत्र में आपसी सहयोग क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता बनाए रखने में एक महत्वपूर्ण कारक है।

फान का पाकिस्तान में स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कहा कि चीन के साथ मैत्री उनके देश की विदेश नीति में एक मील का पत्थर है क्योंकि समकालीन विश्व में इन दोनों देशों के बीच बेजोड़ संबंध हैं। एक आधिकारिक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने दोनों देशों के बीच की सदाबहार मैत्री पर जोर दिया। बयान में कहा गया, ‘जनरल फान चांगलोंग ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में पाकिस्तान की भूमिका की सराहना की और कहा कि दोनों ही देश आतंकवाद और चरमपंथ से निपटने पर साझा नजरिया रखते हैं।’

चीनी सेना के शीर्ष अधिकारी फान पाकिस्तानी सेना के निमंत्रण पर पाकिस्तान के दौरे पर आए हैं। वह भारत की यात्रा पर भी जा सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.