ताज़ा खबर
 
title-bar

राष्ट्रगान सही से नहीं गा पाई, इस सेलिब्रिटी को भेज दिया जेल

साल 2017 में सरकार ने राष्ट्रगान के अपमान के लिए नया कानून लागू किया था। इस कानून के जरिए राष्ट्रगान का अपमान आपराधिक कृत्य माना गया था। इसमें राष्ट्रगान के शब्दों से छेड़छाड़, संगीत की धुन से छेड़छाड़ या किसी भी अन्य प्रकार से छेड़छाड़ पर 15 दिनों की कैद का प्रावधान किया गया था।

राष्ट्रगान के अपमान पर जेल जाने वाली गायिका यांग कैली। फोटो- Twitter/@thedaytowit

चीन की सोशल मीडिया स्टार को राष्ट्रगान का अपमान करने पर पांच दिनों की कैद की सजा सुनाई गई है। ये कानून के तहत दर्ज किया गया सबसे हाई प्रोफाइल मामला है। इस मामले में 20 साल की यांग कैली को गिरफ्तार किया गया है। यांग के सोशल मीडिया पर 4.5 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर हैं। यांग का अपराध ये था कि उसने बीते 7 अक्टूबर को एक लाइव स्ट्रीमिंग वीडियो में चीन के राष्ट्रगान ‘मार्च आॅफ द वॉ​लंटियर्स’ को गाया था। इस दौरान वह अपने हाथों को किसी कंडक्टर की तरह हिला रहीं थीं।

अपने बयान में, शंघाई पुलिस ने कहा,”सभी नागरिकों और संगठनों को राष्ट्रगान का सम्मान करना चाहिए और उसकी अखंडता को सुरक्षित रखना चाहिए।’ यांग कैली को हुई पांच दिनों की कैद राष्ट्रपति शी जिनपिंग के कार्यकाल में चीन के निवासियों पर बढ़ती सेंसरशिप और असहमति पर घटती हुई रोक का प्रतीक है। चीन के राष्ट्रपति ने देश के गौरव और सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी पर भरोसे को पुख्ता करने के लिए बड़े पैमाने पर अभियान चलाया है।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने देशवासियों से आॅनलाइन और आॅफलाइन देशभक्ति दिखाने की मांग की है। इसके अलावा सभी घरेलू और विदेशी कंटेंट जैसे समाचार, किताबों और फिल्मों पर सरकार की भारी सेंसरशिप लागू कर दी गई है। साल 2017 में सरकार ने राष्ट्रगान के अपमान के लिए नया कानून लागू किया था। इस कानून के जरिए राष्ट्रगान का अपमान आपराधिक कृत्य माना गया था। इसमें राष्ट्रगान के शब्दों से छेड़छाड़, संगीत की धुन से छेड़छाड़ या किसी भी अन्य प्रकार से छेड़छाड़ पर 15 दिनों की कैद का प्रावधान किया गया था।

चर्चाएं ये भी हैं कि चीन इस सजा को अधिकतम तीन साल के लिए करने का विचार कर रहा है। यही कानून चीन के प्रभाव वाले प्रशासनिक क्षेत्रों जैसे हांगकांग और मकाऊ पर भी लागू किया जा सकता है। ये कदम इसलिए उठाया जा रहा है कि स्पोर्टस मैच के दौरान चीन का राष्ट्रगान बजने पर लोगों ने हूट किया था। इस कदम से चीन के भीतर ये डर पैदा हुआ है कि कहीं ये कदम आगे चलकर राजनीतिक विरोध का रूप न बन जाए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App