ताज़ा खबर
 

अमेरिका को टक्कर देने के लिए चीन सेना में शामिल करेगा स्टेल्थ फाइटर विमान, भारत के पास नहीं है ऐसा विमान

रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार चीन ने अमेरिका के स्टेल्थ फाइटर प्लेन एफ-22 के जवाब में ही जे-20 विकसित किया है।

चीनी रक्षा विशेषज्ञ द्वारा ट्विटर पर शेयर की गई जे-20 स्टेल्थ फाइयर प्लेन की तस्वीर। (तस्वीर- @xinfengcao ट्विटर)

सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही तस्वीरें से लगता है कि चीन अपना पहला स्टेल्थ फाइटर विमान जे-20 वायु सेना में शामिल करने जा रहा है। सोशल मीडिया पर जे-20 फाइटर के सीरियल नंबर 78271 और सीरियल नंबर 78274 लड़ाकू विमान की तस्वीरों शेयर की गई हैं। माना जा रहा है कि चीन के ये स्टेल्थ लड़ाकू विमान नार्थ सेंट्रल चीन के 176वीं ब्रिगेड में शामिल किए जाएंगे। चीन के इस एयरफोर्स बेस में ही चीन की पीपल लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स (पीएलएएएफ) अपने सैन्य आयुधों का परीक्षण करती है। चीनी रक्षा विशेषज्ञ डाफेंग काओ द्वारा ट्विटर पर दी गई जानकारी के अनुसार छह जे-20 स्टेल्थ लड़ाकू विमानों को इसी महीने एक आधिकारिक कार्यक्रम के दौरान चीनी सेना में शामिल किया जाएगा। डाफेंग काओ ट्विटर पर @xinfengcao हैंडल से ट्वीट करते हैं।

पिछले ही महीने जे-20 स्टेल्थ लड़ाकू विमानों का झुहाई इंटरनेशनल एयर शो में पहली बार सार्वजनिक रूप से प्रदर्शित किया गया था। हालांकि इंटरनेट पर साल 2010 से ही इसकी तस्वीरें उपलब्ध हैं। इसी साल सितंबर में पूर्वी अरुणाचल प्रदेश के निकट स्थित तिब्बत सीमा में ऐसे ही एक विमान को उड़ते हुए देखा गया था।

रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार चीन के जे-20 लड़ाकू विमान राडार को चकमा देने वाली प्रणाली से लैस हैं। इस विमान से हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल दागी जा सकती हैं। इसके अत्याधुनिक डिजाइन और तकीनीकी की वजह से दुश्मन के लड़ाकू विमानों और जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइल की जद में आना कठिन होगा। हालांकि कुछ रक्षा विशेषज्ञ इसके इंजन की क्षमताओं पर सवाल भी खड़ा कर रहे हैं।

रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार चीन ने अमेरिका के स्टेल्थ फाइटर प्लेन एफ-22 के जवाब में ही जे-20 विकसित किया है। जे-20 की तस्वीरें पहली तब सामने आई थीं जब तत्कालीन अमेरिकी रक्षा मंत्री रॉबर्ट गेट्स चीनी के दौरे पर थे। तब माना गया था कि अमेरिकी रक्षा मंत्री के दौरे के दौरान ही चीनी स्टेल्थ फाइटर प्लेन की तस्वीरें सामने आने महज संयोग नहीं है। चीन ने पिछले कुछ सालों में अपनी वायु सेना की ताकत काफी बढ़ाई है।

भारत की चीन की बढ़ती हवाई ताकत पर गहरी नजर है। भारत के पास अभी तक राडार प्रणाली को चकमा देने वाले स्टेल्थ फाइटर विमान नहीं हैं। भारत ने रूस के सुखोई से स्टेल्थ फाइटर विमान (फिफ्थ जेनरेशन फाइटर एयरक्राफ्ट) बनाने के लिए समझौता किया है। हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स भारत के लिए एडवांस्ड मीडियम कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (एएमसीए) बना रहा है लेकिन इसमें अभी कई साल लग सकते हैं क्योंकि विशेषज्ञों के अनुसार अभी तक इन विमान पर काम कागज से आगे नहीं बढ़ा है।

वीडियोः टी की शादी में नहीं खर्च किया पैसा, बेघर लोगों को तोहफे में दिए 90 घर

वीडियोः बिग बॉस में मोनालिसा के डांस ने गौरव, मनु को किया अनकंफर्टेबल

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App