ताज़ा खबर
 

इधर दिल्ली से कर रहा डिप्लोमेटिक बातचीत, उधर गलवन वैली में चीन ने तैनात किए 16 टैंक, तोप और पैदल सेना; तस्वीरों से खुलासा

सैटेलाइट तस्वीरों में कम से कम 16 टैंकों की मौजूदगी भी दिखाई देती है। इनमें पैदल सेना के साथ अन्य वाहन भी हैं।

armyसैटेलाइट तस्वीर भी कम से कम 16 टैंकों की मौजूदगी दिखाती है, जिनमें पैदल सेना के साथ लड़ाकू वाहन भी हैं। (फाइल फोटो)

दिल्ली और बीजिंग एक तरफ जहां पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सैन्य तनाव को कम करने के लिए राजनयिक स्तर पर बातचीत कर रहे हैं, दूसरी तरफ चीन ने गलवन घाटी के सामने एलएसी के किनारे तोप और टैंक तैनात किए हैं। आला सूत्रों ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि सैटेलाइट तस्वीरों के एक विस्तृत विश्लेषण में पता चला है कि चीन की तरफ से खींच कर ले जा सकने वाली तोपें और टैंकों की व्पापक तैनाती की गई है। सैटेलाइट तस्वीरों में कम से कम 16 टैंकों की मौजूदगी भी दिखाई देती है। इनमें पैदल सेना के साथ अन्य वाहन भी हैं।

सूत्रों ने कहा कि फ्लैटबेड ट्रकों, खोदने वाली मशीनों, डंपर ट्रकों की भी कल्पना की गई है। सूत्रों ने बताया कि बंकरों, जमीन पर सैनिकों और मशीन गन की स्थापना को भी देखा जा सकता है, जो यह भी दिखाता है कि चाईनीज आपत्तिजनक अनुमान लगा रहे हैं और रक्षात्मक स्थिति भी बना चुके हैं। सूत्रों ने कहा कि उपयुक्त काउंटर तैनाती LAC के भारतीय पक्ष में भी की गई है ताकि चीन के किसी भी लाभ की स्थिति को बेअसर किया जा सके।

Coronavirus in India LIVE updates

सूत्रों ने कहा कि पैंगोंग त्सो, जहां चीनी और भारतीय सैनिक 5-6 मई को आए थे। भारतीय पक्ष फॉक्सहोल पॉइंट पर चीनी कब्जे के बारे में चिंतित है। यह फिंगर 3 और फिंगर 4 के बीच स्थित है, जिससे चीन को क्षेत्र में वर्चस्व का लाभ मिला है। जैसा कि द इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि पूर्वी लद्दाख के कुछ स्थानों पर: पैंगोंग त्सो क्षेत्र में और हॉट स्प्रिंग्स क्षेत्र में तीन अलग-अलग स्थानों पर चीनी सेनाएं एलएसी को पार करके भारतीय क्षेत्र में चली गईं। LAC के बारे में दोनों पक्षों की धारणा पैंगोंग त्सो में अलग-अलग रही है, जिससे झील और उत्तरी तट पर तनाव और विवाद पैदा हुए हैं।

लेकिन हॉट स्प्रिंग्स  (गोगरा, पैट्रोलिंग प्वाइंट-14, पीपी-15) में जिन स्थानों पर चीनी घुसपैठ देखी गई, वो अब तक विवादित नहीं हैं और वो एलएसी से दो-तीन किलोमीटर आगे आ गए। भारतीय पक्ष भी एलएसी की तरफ से गलवन नदी के उलट, चीनी तैनाती पर रणनीतिक दरबुक-श्योक-दौलत बेग ओल्डी (डीएसडीबीओ) सड़क पर खतरे के बारे में चिंतित है। 255 किलोमीटर लंबी सड़क पिछले साल रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा खोली गई थी, जिन्होंने इस क्षेत्र के उत्तर में श्योक नदी पर 1400 फीट के पुल का उद्घाटन किया था।

लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद के कार्यकारी पार्षद (शिक्षा) कोंचोक स्टैनजिन ने कहा कि हालांकि यह कहना मुश्किल है कि पैंगोंग त्सो क्षेत्र में भारतीय क्षेत्र के अंदर कितने चीनी सैनिकों ने घुसपैठ की है, वे पैट्रोलिंग प्वाइंट 14-15 के अलावा फोर फिंगर और ग्रीन टॉप क्षेत्रों में भी डेरा डाले हुए हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अमेरिका और चीन के बीच बढ़ी तनातनी, जानिए वजह
2 अमेरिका में कोविड-19 से लाख से ज्यादा लोगों की मौत, मची तबाही; भारतीयों की मौतों का नहीं है डाटा
3 महामारी का पहला दौर खत्म नहीं हुआ : डब्लूएचओ