भारत से निपटने को चीन ने अपनी सेना में तैनात किए पाकिस्तानी अधिकारी, LAC के पास दी जिम्मेदारीः खुफिया रिपोर्ट

रिपोर्ट्स के अनुसार चीनी सेना के वेस्टन और सदर्न कमांड के मुख्यालय में पाकिस्तान के फौजी अफसर तैनात किए गए हैं।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः रायटर्स)

भारत के खिलाफ नापाक साजिश की कोशिशों में जुटी पाकिस्तान और चीन ने गठजोड़ किया है। ख़ुफ़िया रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है कि भारत से निपटने के लिए चीन ने अपनी सेना में पाकिस्तानी अधिकारी तैनात किए हैं और इन पाकिस्तानी अधिकारीयों को एलएसी के पास जिम्मेवारी दी गई है।

रिपोर्ट्स के अनुसार चीनी सेना के वेस्टन और सदर्न कमांड के मुख्यालय में पाकिस्तान के फौजी अफसर तैनात किए गए हैं। वेस्टर्न कमांड लद्दाख और सदर्न कमांड तिब्बत इलाकों में नजर रखता है। चीन ने पिछले महीने ही जनरल वांग हैजिआंग को पश्चिमी कमांड का नया कमांडर नियुक्‍त किया था।

न्यूज 18 की रिपोर्टस के अनुसार पाकिस्तान सेना के कर्नल रैंक के अधिकारी सेंट्रल मिलिट्री कमिशन के जॉइंट स्टाफ डिपार्टमेंट में तैनात हैं, जो चीन सेना के लिए युद्ध की योजना, प्रशिक्षण और रणनीति बनाने का काम देखेंगे। इसके अलावा करीब 10 पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों को भी बीजिंग स्थित पाकिस्तान उच्चायोग के दफ्तर में तैनात किया गया है। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि चीनी आर्मी में पाकिस्तानी सेना के अधिकारियों की नियुक्ति ख़ुफ़िया सूचनाओं को साझा करने वाला समझौता होने के बाद किया गया है। 

हालांकि पहले भी पाकिस्तान चीनी प्रोजेक्ट के देखरेख में अपने जवानों को नियुक्त कर चुका है। पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार पाकिस्तान ने सीपीईसी और अपने देश में मौजूद चीनी नागरिकों की सुरक्षा में करीब 15000 जवानों को तैनात कर रखा है। पाकिस्तान ने पिछले दिनों एक विशेष विभाग बनाने का भी निर्णय लिया था जो चीनी प्रोजेक्ट और चीनी नागरिकों की सुरक्षा का जिम्मा संभालेंगी।

वहीं भारतीय सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने भारत और चीन के बीच चल रहे गतिरोध की स्थिति को लेकर कहा कि पिछले 6 महीनों में स्थिति काफी सामान्य रही है। हमें उम्मीद है कि अक्टूबर के दूसरे सप्ताह में 13वें दौर की वार्ता होगी और हम इस बात पर आम सहमति पर पहुंचेंगे कि ‘डिसएंगेजमेंट’ कैसे होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि चीन ने हमारे पूर्वी कमान तक पूरे पूर्वी लद्दाख और उत्तरी मोर्चे पर काफ़ी संख्या में तैनाती की है। निश्चित रूप से अग्रिम क्षेत्रों में उनकी तैनाती में वृद्धि हुई है जो हमारे लिए चिंता का विषय बना हुआ है।

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट