अमेर‍िका ने पाक‍िस्‍तान को धमकाया तो बचाव में उतरा चीन

आतंकवादियों को पनाह देने के लिए फटकार लगाते हुए ट्रंप ने कहा था कि हम लोग जिन आतंकवादियों से लड़ रहे हैं, पाकिस्तान उनको ही पनाह दे रहा है।

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पाकिस्तान पर दिए बयान का चीन ने बचाव किया है। आतंकवादियों को पनाह देने के लिए फटकार लगाते हुए ट्रंप ने कहा था कि हम लोग जिन आतंकवादियों से लड़ रहे हैं, पाकिस्तान उनको ही पनाह दे रहा है। जबकि अमेरिका उसको बिलियन डॉलर की मदद भी दे रहा है। ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान ने अगर यह सब जारी रखा तो अमेरिका शांत नहीं बैठेगा। इस पर चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा कि आतंकवाद से लड़ाई में पाकिस्तान अग्रिम पंक्ति में था और उसने आतंक से संघर्ष में बड़ा त्याग कर अहम योगदान दिया है। उन्होंने कहा, हमें लगता है कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को पाकिस्तान को आतंक विरोधी समझना चाहिए। उन्होंने कहा, यह देखकर हम खुश हैं कि पाकिस्तान और अमेरिका आपसी सम्मान के आधार पर आतंकवाद विरोधी सहयोग को पूरा करते हैं। साथ ही इस क्षेत्र और दुनिया में सुरक्षा और स्थिरता के लिए मिलकर काम करते हैं।

बता दें कि अमेरिका और पाकिस्तान के काफी करीबी आर्थिक और सुरक्षा रिश्ते हैं। इसके अलावा चीन की इस क्षेत्र में पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आने वाले आतंकियों और मुस्लिम संगठनों को लेकर अपनी सुरक्षा चिंताएं हैं। चीन हमेशा अपने पश्चिमी इलाके शिनजियांग में हिंसा के लिए उन्हीं को दोष देता है।

गौरतलब है कि सोमवार को अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि अगर हमारे बीच आपसी शांति नहीं है तो हम दुनिया में शांति कायम रखने वाली ताकत नहीं बने रह सकते। अफगानिस्तान का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा था कि जल्दबाजी में अफगानिस्तान से हटने पर वहां शून्य की स्थिति पैदा हो जाएगी, जिससे (आईएसआईएस और अल कायदा सहित) बाकी आतंकवादी संगठन फायदा उठाने की सोच सकते हैं। भारत-पाकिस्तान के रिश्तों का जिक्र करते हुए ट्रंप ने कहा था कि खतरा और भी बढ़ गया है क्योंकि भारत और पाकिस्तान दोनों ही परमाणु संपन्न देश हैं, जिनके बीच तनावपूर्ण संबंधों के संघर्षों में बदलने का खतरा है।

पढें अंतरराष्ट्रीय समाचार (International News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X