ताज़ा खबर
 

जब तक चाहें चीन के राष्‍ट्रपति बने रह सकते हैं शी जिनपिंग, पास हुआ कानून

चीनी विधायिका ने राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के लिए दो कार्यकाल की सीमा को हटा दिया है। इस प्रकार राष्ट्रपति शी जिनपिंग जब तक चाहें तब तक पद पर बने रह सकते हैं। असेंबली में कानून पास होने के बाद जिनपिंग के आजीवन राष्ट्रपति बने रहने का रास्ता साफ हो गया।

Author नई दिल्ली | March 11, 2018 16:14 pm
चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग। (फाइल फोटो)

चीनी विधायिका ने राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के लिए दो कार्यकाल की सीमा को हटा दिया है। इस प्रकार राष्ट्रपति शी जिनपिंग जब तक चाहें तब तक पद पर बने रह सकते हैं। असेंबली में कानून पास होने के बाद जिनपिंग के आजीवन राष्ट्रपति बने रहने का रास्ता साफ हो गया। सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना( सीपीसी) की ओर से प्रस्तावित संविधान संशोधन को पारित होने की बात पहले से तय मानी जा रही थी। आखिरकार वैसा हुआ भी। रविवार को इस संविधान संसद को संसद से मंजूरी मिल गई।

इस समय शी जिनपिंग का दूसरा कार्यकाल चल रहा है। दूसरा कार्यकाल 2023 में पूरा होगा। संसद के सालाना सत्र से पहले कम्युनिस्ट पार्टी आफ चाइना ने राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के दो कार्यकाल की सीमा को हटाने का प्रस्ताव पेश किया। जिससे मतदान के बाद मंजूरी दी गई। चीन में तानाशाही की स्थिति न उत्पन्न हो, इसके लिए पिछले दो दशक से राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति के लिए दो कार्यकाल की सीमा तय की गई। इसका पालन होता रहा। मगर शी जिनपिंग के राष्ट्रपति बनने के बाद से कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया ने कार्यकाल बढ़ाने की तैयारी की थी। आखिरकार पार्टी के प्रस्ताव को संसद में मंजूरी मिल गई। करीब तीन हजार सदस्यों वाली संसद ‘नेशनल पीपुल्स कांग्रेस’ अक्सर पार्टी के सभी प्रस्तावों के आगे घुटने टेक देती है, इस नाते इसे रबर स्टांप संसद भी कहा जाता है।शी जिनपिंग का चीन की राजनीत में क्या रुतबा है, इसका पता इसी बात से चलता है कि चीनी संविधान में शी को चीन के पहले कम्युनिस्ट नेता और संस्थापक माओत्से तुंग के बराबर दर्जा दिया गया है। 2012 में चीन का राष्ट्रपति बनने के बाद से शी का दबदबा बढ़ता गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App