ताज़ा खबर
 

चीन: कम्युनिस्ट पार्टी की मीटिंग पर आतंकवादी हमले की आशंका, किले में तब्दील हुआ बीजिंग

चीन पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) के आतंकवादियों से लोहा ले रहा है। ऐसा बताया जाता है कि ईटीआईएम के इस्लामिक स्टेट आतंकवादी संगठन के साथ संबंध है।

Author नई दिल्ली | October 16, 2017 6:49 PM
सरकार ने मुस्लिम बहुल शिनजियांग प्रांत में किसी सुरक्षा अभियान से इनकार किया है। (Image: Reuters)

शिनजियांग प्रांत से आतंकवादी हमलों की आशंका के बीच सत्तारूढ़ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की महत्वपूर्ण कांग्रेस के मद्देनजर बीजिंग को सुरक्षा के लिहाज से एक किले में तब्दील कर दिया गया है। हांलाकि सरकार ने मुस्लिम बहुल शिनजियांग प्रांत में किसी सुरक्षा अभियान से इनकार किया है। थ्येनआन स्क्वेयर समेत राष्ट्रीय राजधानी में विभिन्न महत्वपूर्ण स्थानों पर सुरक्षा बलों की भारी तैनाती देखी गई है। हर पांच साल में होने वाली यह कांग्रेस ग्रेट हॉल आॅफ द पीपुल में आयोजित होगी।

चीनी विदेश मंत्रालय में प्रवक्ता लु कांग ने शिनजियांग में सुरक्षा बलों द्वारा पाबंदियां बढ़ाने की खबरों का खंडन करते हुए कहा, ‘‘मैंने आपके द्वारा उल्लेखित हालात के बारे में कभी नहीं सुना है।’’ उनसे उच्च गुणवत्ता वाले कैमरे लगाए जाने, चेहरा पहचानने वाली प्रौद्योगिकी की तैनाती, टेलीफोन ट्रैकिंग और उईगर मानवाधिकार संगठनों के आरोपों से जुड़ी खबरों के बारे में पूछा गया था। लु ने कहा,‘‘ मैं इस बात पर जोर देना चाहता हूं कि शिनजियांग के लोग खुश हैं और शांतिपूर्ण ढंग से काम कर रहे हैं। हमने स्थानीय अधिकारियों द्वारा उठाए गए इस तरह के कदमों के बारे में कभी नहीं सुना।’’

चीन पूर्वी तुर्किस्तान इस्लामिक मूवमेंट (ईटीआईएम) के आतंकवादियों से लोहा ले रहा है। ऐसा बताया जाता है कि ईटीआईएम के इस्लामिक स्टेट आतंकवादी संगठन के साथ संबंध है। चीन सरकार को सीपीसी की 19वीं कांग्रेस के मद्देनजर आतंकवादी हमलों की आशंका है। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) की कांग्रेस 18 अक्तूबर से यहां शुरू होगी, जिसमें राष्ट्रपति शी चिनपिंग के दूसरे पांच वर्षीय कार्यकाल की पुष्टि किए जाने की उम्मीद है।

सत्तरूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी की इस सप्ताह होने वाली इस अहम कांग्रेस में व्यापक अधिकारों के साथ अपनी दूसरी पारी की शुरूआत करने वाले चीनी राष्ट्रपति शी चिनपिंग की नजर अभूतपूर्व तीसरे कार्यकाल की ओर हो सकती है। पर्यवेक्षकों ने यह राय जाहिर की है। यह घोषणा 2002 से लागू परंपरा के अनुरूप होगी, जिसमें शीर्ष नेताओं को दो कार्यकाल दिए जाते हैं। इसके बाद वे अवकाशग्रहण कर लेते हैं। पांच साल पहले हुयी 18वीं कांग्रेस में तत्कालीन राष्ट्रपति हू जिन्ताओ और प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ ने दो कार्यकालों के बाद परंपराओं का पालन करते हुए सत्ता शी को सौंप दी थी, जो उस समय राष्ट्रपति थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App