ताज़ा खबर
 

चीन ने दी धमकी, कहा- दक्षिण चीन सागर विवाद में टांग न अड़ाए भारत, इसी में समझदारी है

दोनो देशों के संबंधों में खिंचाव के बीच वांग 13 अगस्त को भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ बातचीत के लिए भारत आ रहे हैं।
Author बीजिंग | August 9, 2016 18:07 pm
भारत की बुराई करने वाला ‘ग्लोबल टाइम्स’ पहले भी ऐसी बातें करता रहा है। NSG के मुद्दे पर छपे एक लेख में कहा गया था कि भारत को सदस्यता मिलने से परमाणु टकराव पैदा हो सकता है।

चीन के आधिकारिक मीडिया ने कहा है कि विदेश मंत्री वांग यी की नयी दिल्ली यात्रा के दौरान दक्षिण चीन सागर विवाद में भारत को ‘अनावश्यक रूप से नहीं पड़ना चाहिए’ ताकि यह द्विपक्षीय संबंधों को प्रभावित करने वाला एक और कारक नहीं बने। सरकारी समाचार पत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने एक लेख में कहा, ‘‘भारत अगर आर्थिक सहयोग के लिए अच्छा मााहौल बनाना चाहता है तो उसे वांग की यात्रा के दौरान दक्षिणी चीन सागर की बहस में अनावाश्यक रूप से पड़ने से परहेज करना चाहिए। भारत के साथ आर्थिक सहयोग में भारत में बने उत्पादों का चीन में निर्यात होने पर उस पर शुल्क दर को कम करना शामिल है।’’ इसमें कहा गया, ‘‘क्षेत्रीय समग्र आर्थिक साझेदारी पर होने वाली बातचीत के दौरान भारत चीन में बने उत्पादों पर शुल्क दर में मामूली कमी की अनुमति दे सकता है क्योंकि वह अपने घरेलू उद्योगों को सुरक्षित रखने की कोशिश करेगा। अगर भारत यह उम्मीद करता है कि चीन शुल्क दर को कम करने में अधिक उदारता दिखाए तो उसके लिए इस समय चीन के साथ अपने संबंधों को बिगाड़ना समझदारी नहीं होगी।’’

अखबार ने कहा कि भारत जिस तरह से दक्षिणी चीन सागर के मुद्दे पर ध्यान केंद्रित कर रहा है उससे द्विपक्षीय संबंधों पर अनावश्यक रूप से विपरीत असर पड़ सकता है और भारत के निर्यातकों के लिए भी बाधाएं खड़ी कर सकता है। दोनो देशों के संबंधों में खिंचाव के बीच वांग 13 अगस्त को भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ बातचीत के लिए भारत आ रहे हैं। इस दौरान दोनों देश प्रमुख क्षेत्रीय और द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करेंगे। उनका दौरा अगले महीने चीन के होंगझोउ शहर में होने जा रहे जी-20 शिखर सम्मेलन से ठीक पहले हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस शिखर सम्मेलन में भाग ले सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Aurora
    Aug 10, 2016 at 3:50 am
    China also needs to play a responsible role for peace in SCS by accomodating the justified requirements of the smaller nations in the region instead of trying to armtwist others to extends her selfish goals.
    (0)(0)
    Reply
    1. Suresh Mane
      Aug 10, 2016 at 5:56 am
      आयला च्या मायला एक जुा फेक के मारुंगा सारी हेकडी निकाल जायेगी !
      (0)(0)
      Reply