ताज़ा खबर
 

नरम पड़ा चीन, ब्रह्मपुत्र नदी से जुड़े आंकड़े शेयर करने के लिए हुआ तैयार

चीन ने बुधवार को कहा कि ब्रह्मपुत्र नदी से संबंधित पनबिजली के आंकड़े वह फिर से भारत के साथ साझा करेगा।

Author Published on: March 28, 2018 5:39 PM
(Reuters)

चीन ने बुधवार को कहा कि ब्रह्मपुत्र नदी से संबंधित पनबिजली के आंकड़े वह फिर से भारत के साथ साझा करेगा। कम्युनिस्ट देश का यह फैसला दोनों देशों के शीर्ष अधिकारियों की दो दिन चली वार्ता के बाद आया है। गौरतलब है कि नदी में बाढ़ का पता लगाने के लिहाज से महत्वपूर्ण इन आंकड़ों को चीन ने पिछले वर्ष भारत के साथ साझा करना बंद कर दिया था। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘मानवीय भावनाओं और द्विपक्षीय संबंधों को विकसित करने की दोनों देशों की इच्छा के मद्देनजर हम पनबिजली सूचना सहयोग को आगे बढ़ाते रहेंगे।’’ वह पत्रकारों के सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या अब चीन ब्रह्मपुत्र में जल प्रवाह से जुड़े़ पनबिजली संबंधी आंकड़ों को भारत के साथ साझा करेगा। चीन ने पिछले साल कहा था कि तिब्बत स्थित आंकड़े एकत्र करने वाले केन्द्र में आधुनिकीकरण का काम चल रहा है इसलिए वह आंकड़े साझा नहीं कर सकता है। हालांकि, यह घोषणा डोकलाम में भारत और चीन की सेना के बीच 73 दिन तक चले गतिरोध के बाद हुई थी।

भारत के जल संसाधन मंत्रालय के अधिकारियों ने दोनों देशों में बहने वाली नदियों पर सहयोग के संबंध में अपने चीनी समकक्षों से बातचीत की। चीन द्वारा आंकड़े मुहैया कराना बंद किये जाने के बाद यह दोनों देशों के बीच इस संबंध में पहली बैठक है। बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास की ओर से आज जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, दोनों देशों में बहने वाली नदियों के संबंध में भारत-चीन विशेषज्ञ स्तरीय तंत्र (ईएलएम) की 11वीं बैठक कल चीन के हांगझोऊ शहर में समाप्त हुई। वार्ता दो दिन चली। भारतीय शिष्टमंडल का नेतृत्व जल संसाधन मंत्रालय में आयुक्त के पद पर कार्यरत तीरथ सिंह मेहरा ने किया वहीं चीनी दल का नेतृत्व जल संसाधन मंत्रालय के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मामलों में अंतरराष्ट्रीय सहयोग विभाग के काउंसल यु शिंगजुंग ने किया।

प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, बैठक में ईएलएम शुरू होने से अभी तक उसमें हुई प्रगति और पनबिजली संबंधी जानकारी उपलब्ध कराने तथा दोनों देशों में बहने वाली नदियों से उत्पन्न होने वाली आपातस्थिति में सहयोग करने पर चर्चा हुई। अधिकारियों ने ब्रह्मपुत्र और सतलुज नदियों में बाढ़ के मौसम में पनबिजली से जुड़े चीन और भारत के आंकड़ों का भी विश्लेषण किया। ईएलएम की शुरूआत 2006 में हुई। इस समझौते के तहत चीन 15 मई से 15 अक्तूबर के बीच ब्रह्मपुत्र नदी के बाढ़ के आंकड़े भारत को उपलब्ध कराता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गवाह का दावा- कांग्रेस को चुनाव हरवाने के लिए कैम्ब्रिज एनालिटिका को भारतीय अरबपति ने पैसे दिए
2 गुपचुप ढंग से चीन पहुंचे किम जोंग उन, शी जिनपिंग से मुलाकात कर बढ़ाए दोस्ती के कदम
3 वीडियो: अमेरिका में हुई पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री की चेकिंग, नाराज चैनलों ने बताया ‘शर्मनाक’