ताज़ा खबर
 

खूनी खेल के बाद भी शार्ली एब्दो में छपती रहेगी पैगंबर मोहम्मद के कार्टून

पैंगबर मोहम्मद के कार्टून छापने की वजह से आतंकवादी हमले का शिकार हुई फ्रेंच मैगजीन शार्ली एब्दो अपने पत्रकारों को खोने के बाद भी शांत बैठने के मूड में नहीं है। शार्ली एब्दो के लेटेस्ट कवर पेज पर पैंगबर मोहम्मद का कार्टून फिर से छापा जा रहा है। इस कवर के साथ पत्रिका का एडिशन […]

Author January 13, 2015 10:22 am
पैगंबर मोहम्मद के कार्टून के साथ बुधवार को फिर छपेगी शार्ली एब्दो (तस्वीर-रॉयटर्स)

पैंगबर मोहम्मद के कार्टून छापने की वजह से आतंकवादी हमले का शिकार हुई फ्रेंच मैगजीन शार्ली एब्दो अपने पत्रकारों को खोने के बाद भी शांत बैठने के मूड में नहीं है। शार्ली एब्दो के लेटेस्ट कवर पेज पर पैंगबर मोहम्मद का कार्टून फिर से छापा जा रहा है। इस कवर के साथ पत्रिका का एडिशन बुधवार को रिलीज होगा।

कवर पेज पर पैंगबर को हाथ में साइन बोर्ड लिए दिखाया गया है जिस पर लिखा है- मैं शार्ली हूं। इसके नीचे लिखा है- सबकुछ माफ है। मैगजीन के वकील रिचर्ड मल्का ने फ्रेंच रेडिया से बातचीत में कहा था कि यह बताना जरूरी है कि हम आतंकवादियों के सामने किसी भी हाल में घुटने नहीं टेकेंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आतंकी हमले में मारे गए अपने लोगों के दुख, शोक और दर्द के दो दिन बाद ही शार्ली एब्दो का 25 लोगों का स्टाफ काम में जुट गया था। मैगजीन का स्टाफ अगले इश्यू पर काम करते समय भारी पुलिस सुरक्षा से घिरा है। नए इश्यू पर काम करते समय उनके लिए सबसे बड़ा सवाल यह था कि वह इस तकलीफ की घड़ी में कैसे ‘फनी’ तत्व पेश करें। वैसे शार्ली की इस बार 30 लाख प्रतियां पब्लिश की जानी हैं। पहले यह केवल 60 हजार प्रतियां छापता था।

जैसा कि आप जानते हैं, पिछले ही हफ्ते बुधवार को फ्रांस की सबसे पॉप्युलर व्यंग्यात्मक मैगजीन शार्ली एब्दो के ऑफिस पर हमला करके आतंकवादियों ने इसके इसके टॉप कार्टूनिस्ट मार दिए गए थे। इस हमले में कुल 12 लोगों की मौत हो गई थी। आतंकवादियों ने इसके बाद नारे लगाए थे कि उन्होंने पैंगबर मोहम्मद का बदला ले लिया है। कवैसे, इससे पहले साल 2011 में भी मैगजीन के दफ्तर में आग लगा दी गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App