ताज़ा खबर
 

छोटा राजन को लाने बाली पहुंची टीम, भारतीय राजनयिक ने की मुलाकात

छोटा राजन को लाने के लिए सीबीआइ और पुलिस अधिकारियों का एक संयुक्त दल रविवार को इंडोनेशिया पहुंच गया। दो दिन पहले ही भारत ने वहां के अधिकारियों को पत्र लिख..

Author नई दिल्ली / बाली | November 2, 2015 02:44 am
भारत के सबसे वांछित अपराधियों में एक अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को इंडोनेशिया पुलिस ने इंटरपोल के रेडकार्नर नोटिस के आधार पर बाली में गिरफ्तार कर किया गया। (Source: NCB-Interpol Indonesia)

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को लाने के लिए सीबीआइ और पुलिस अधिकारियों का एक संयुक्त दल रविवार को इंडोनेशिया पहुंच गया। दो दिन पहले ही भारत ने वहां के अधिकारियों को पत्र लिख कर राजन की वापसी के लिए कहा था ताकि उसके खिलाफ दर्ज कई आपराधिक मामलों में मुकदमा चल सके। छोटा राजन को बाली की जेल में रखा गया है। इस बीच इस लोकप्रिय पर्यटन स्थल स्थित एक हिरासत केंद्र में एक भारतीय राजनयिक ने मुलाकात की।

अंडरवर्ल्ड डॉन को भारत ले जाने के लिए आज यहां पहुंचे भारतीय अधिकारियों की सुरक्षा के लिए विशेष पुलिस कमांडो की तैनाती की गई। सूत्रों ने कहा कि इंडोनेशियाई पुलिस के विशेष कमांडो बीते रविवार को आस्ट्रेलिया से आने पर गिरफ्तार राजन को चौबीसों घंटे सुरक्षा दे रहे हैं।

भारतीय अधिकारियों और भारत के सबसे वांछित अपराधियों में से एक राजन की सुरक्षा इसलिए बढ़ाई गई है क्योंकि राजन को दाऊद इब्राहिम के उनके विरोधी गिरोह से खतरा है।संयुक्त दल रविवार तड़के जकार्ता के लिए रवाना हुआ था, जहां से वह बाली पहुंचा।

सूत्रों ने बताया कि जकार्ता में भारतीय दूतावास में पदस्थ प्रथम सचिव संजीव कुमार अग्रवाल ने आज उस हिरासत केंद्र में करीब आधे घंटे तक राजन से बातचीत की जहां उसे पिछले रविवार को गिरफ्तार करने के बाद से रखा गया है। पहली बार किसी भारतीय अधिकारी ने उससे जेल में मुलाकात की है।

मुंबई में जन्मे राजन को इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर इंडोनेशिया के बाली में गिरफ्तार किया गया था। वह पिछले दो दशक से अधिक समय से एजंसियों को चकमा दे रहा था। भारत और इंडोनेशिया के बीच प्रत्यर्पण संधि नहीं होने की स्थिति में भारतीय अधिकारी उसका निर्वासन कराने के लिए उसकी भारतीय पहचान के बारे में इंडोनेशियाई अधिकारियों को पहले ही दस्तावेज मुहैया करा चुके हैं।

बाली गया सीबीआइ, मुंबई पुलिस और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का संयुक्त दल उसके भारत निर्वासन के लिए प्रयास करेगा। मुंबई पुलिस की ओर से उसके खिलाफ 75 मामले दर्ज हैं वहीं दिल्ली पुलिस द्वारा उसके खिलाफ छह मामले दर्ज हैं।

भारत में इंटरपोल की नोडल एजंसी होने के नाते अपने अधिकारियों को भेजने वाली सीबीआइ राजन को वापस लाए जाने पर उसे मुंबई पुलिस की हिरासत में सौंपेगी। एक समय दाऊद का करीबी रहा राजन 1993 के मुंबई शृंखलाबद्ध बम विस्फोटों के बाद उसका दुश्मन बन गया। सुरक्षा एजंसियों के पूर्व अधिकारियों की राय है कि हो सकता है कि राजन ने खराब सेहत और दाऊद और उसके प्रमुख गुर्गे छोटा शकील से खतरे के चलते समर्पण कर दिया हो।

उधर, बाली में छोटा राजन से एक भारतीय राजनयिक ने मुलाकात की। सूत्रों ने कहा कि प्रथम सचिव (वाणिज्य दूतावास) संजीव कुमार अग्रवाल ने यहां हिरासत केंद्र में करीब आधे घंटे तक राजन से बातचीत की जहां उसे पिछले रविवार को गिरफ्तार करने के बाद से रखा हुआ है।

दो दिन पहले ही इंडोनेशियाई पुलिस ने राजन की हिरासत के बारे में भारतीय दूतावास में रिपोर्ट जमा की थी। राजन को जिस समय बाली हवाईअड्डे पर गिरफ्तार किया गया था उसके पास मोहन कुमार नाम से भारतीय पासपोर्ट था।

इंडोनेशिया में भारतीय राजदूत गुरजीत सिंह ने शुक्रवार को कहा था कि राजन के भारत निर्वासन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, लेकिन इसके लिए कोई समय सीमा नहीं है। राजन ने वकील के तौर पर फ्रांसिको प्रसार की सेवाएं भी ली हैं जिन्होंने उससे दो दिन पहले हिरासत केंद्र में मुलाकात की थी।

* बाली गया सीबीआइ, मुंबई पुलिस और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों का संयुक्त दल उसके भारत निर्वासन के लिए प्रयास करेगा।

* मुंबई पुलिस की ओर से उसके खिलाफ 75 मामले दर्ज हैं, वहीं दिल्ली पुलिस द्वारा उसके खिलाफ छह मामले दर्ज हैं।

* मुंबई में जन्मे राजन को इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस के आधार पर इंडोनेशिया के बाली में गिरफ्तार किया गया था।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करेंगूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App