ताज़ा खबर
 

आदमी का कटा हुआ पैर-हाथ लेकर थाने पहुंचा शख्‍स, कहा- इंसानी गोश्‍त खाकर थक गया हूं मैं

खुद के नरभक्षी होने के सुबूत देते हुए शख्स ने पुलिस को एक इंसान के शरीर से काटा गया पैर भी दिया। सुबूत मिलने के बाद पुलिस ने इलाके में तलाशी ली और एक घर से कई अन्य कटे हुए मानव अंग बरामद किए।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्‍मक तौर पर किया गया है। (Source: Agency)

दक्षिण अफ्रीका में जुर्म की ऐसी वारदात हुई है जिसके बारे में जानकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। यहां पर एक शख्स ने खुद को पुलिस स्टेशन में जाकर सरेंडर किया और खुद के नरभक्षी होने की बात कुबूली। रिपोर्ट्स के मुताबिक शख्स ने पुलिस से कहा, “मैं इंसान का मांस खाते-खाते थक चुका हूं।” खुद के नरभक्षी होने के सुबूत देते हुए शख्स ने पुलिस को एक इंसान के शरीर से काटा गया पैर भी दिया। सुबूत मिलने के बाद पुलिस ने क्वाजुलू-नेटल इलाके में स्थित एक घर की तलाशी ली। तलाशी में घर से कई अन्य कटे हुए मानव अंग मिले। इस्कोर्ट न्यूज के मुताबिक इस मामले में तीन संदिग्धों के कथित रूप से एक महिला की हत्या कर उसके अंगों को काटा की भूमिका है।

इसके अलावा एक और इलाके इस्कोर्ट में भी ऐसा मामला सामने आया है। यहां पर भी एक जगह से कई मनाव अंग बरामद किए गए। एक अन्य शख्स के भी मारे जाने की खबर है लेकिन उसकी पहचान नहीं हो पाई है। मामले के आरोपियों के खिलाफ ह्यूमन टिशू ऐक्ट 1983 के तहत मुकदमा चलाया जाएगा। इसके मुताबिक बिना इजाजत किसी मानव अंग को साथ रखने पर सजा का प्रावधान है। वहीं पुलिस को इस मामले में किसी बड़े सिंडीकेट की भूमिका होने का भी शक है, जो इंसानी मांस के कारोबार में शामिल हो सकता है।

पुलिस ने लोगों से भी अपील की है कि वह अपने लापता रिश्तेदारों के केसिस की जांच में मदद के लिए आगे आएं। इलाके के एक लोकल काउंसलर ने बताया,”पुलिस को इस मामले में जांच में एक पोट से 8 मानव कान भी बरामद हुए थे। ऐसे में इस मामले में काफी कुछ है।” बता दें हाल ही में एक नरभक्षण को लेकर एक और खबर सामने आई थी। दक्षिण अफ्रीका के अमंग्वे(Amangwe) इलाके में सैकड़ों लोगों ने मानव अंग खाने की बात को कुबूला था। लेडीस्मिथ गजेट (Ladysmith Gazette’s) की खबर के मुताबिक Amangwe में हुई एक सभा में काउंसिलर के सामने 300 लोगों ने मनाव अंगों का, पारमपरिक दवा के रूप में सेवन करने कीबात कुबूल की थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App