ताज़ा खबर
 

5 साल में 5.8 लाख भारतीयों ने छोड़ी नागरिकता, सबसे ज्यादा लोग अमेरिका में बसे

विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक इस अवधि में 5.8 लाख भारतीयों ने अपनी नागरिकता छोड़ दी। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2019 के शुरुआती दस महीनों में रिकॉर्ड 1.1 लाख भारतीयों ने अपने पासपोर्ट सरेंडर कर दिए।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर विवाद के बीच भारतीयों द्वारा नागरिकता छोड़ने का चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आया है। रिपोर्ट के मुताबिक जनवरी, 2015 से अक्टूबर 2019 के बीच पांच लाख से ज्यादा भारतीयों ने अपनी नागरिकता छोड़ दी। इन लोगों ने भारत की नागरिकता छोड़ किसी अन्य देश की नागरिकता लेना पसंद किया। रिपोर्ट के मुताबिक लोगों ने सबसे अधिक अमेरिका की नागरिकता ली। भारतीयों ने इसके बाद ऑस्ट्रेलिया और कनाडा की नागरिकता की आकर्षित हुए।

विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक इस अवधि में 5.8 लाख भारतीयों ने अपनी नागरिकता छोड़ दी। रिपोर्ट के मुताबिक साल 2019 के शुरुआती दस महीनों में रिकॉर्ड 1.1 लाख भारतीयों ने अपने पासपोर्ट सरेंडर कर दिए। रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय नागरिकता छोड़ने की सबसे अधिक संख्या 2016 में दर्ज की गई, जब रिकॉर्ड 1.3 भारतीयों ने देश की नागरिकता छोड़ दी।

अन्य सालों में भी प्रति वर्ष एक लाख से अधिक भारतीयों ने दूसरे देश के नागरिकता देने के लिए भारतीय पासपोर्ट वापस कर दिए। भारतीय विदेश मंत्रालय के पास दुनियाभर में भारतीय नागरिकता छोड़ने वाले नागरिकों और भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन करने वाले लोगों का संकलन होता है।

रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में 106072, 2018 में 119599, 2019 में 111244 लोगों ने देश की नागरिकता छोड़ने के लिए आवेदन किया। इनमें 44 फीसदी यानी 2.5 लाख के करीब भारतीयों ने अमेरिकी नागरिकता लेने के लिए आवेदन किया। इसके अलावा एक लाख से ज्यादा भारतीयों ने ऑस्ट्रेलिया में बसने के लिए भारतीय नागरिकता छोड़ दी।

94874 भारतीय ने कनाडा की नागरिकता के लिए आवेदन किया। वहीं अन्य 1.3 लाख भारतीय ने दूसरे देश की नागरिकता के लिए आवेदन किया। इस बीच पाकिस्तान और सीरिया जैसे देशों की नागरिकता के लिए किसी भी भारतीय ने आवेदन नहीं किया। रिपोर्ट के मुताबिक 35986 भारतीय ने वहां की नागरिकता के लिए आवेदन किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 जुमे की नमाज के बाद गोली मारकर कर दी गई थी 51 मुसलमानों की हत्या, एक साल बाद भी खौफ में समुदाय
2 Coronavirus: कोरोना वायरस का इलाज ढूंढने में क्यों लग रहा है इतना वक्त, जानिए क्या है इसकी वजह
3 दुर्लभ सफेद जिराफ और उसके बच्चे को शिकारियों ने बनाया निशाना, अब पूरी दुनिया में बचा सिर्फ एक