ताज़ा खबर
 

पेंटिंग के जरिये चैरिटी करना चाहता है ये क्रिकेटर, ट्रोल्स ने कहा-भाईजान पता नहीं इस्लाम में हराम है चित्रकारी

मोहम्मद जिशान ने लिखा, ' क्या आपको नहीं पता है भाईजान, इस तरह की पेटिंग, ड्राइंग बनाने की इस्लाम में अनुमति नहीं है, जहां तक मेरा छोटा सा ज्ञान है।'

इस अंतर्राष्ट्रीय किक्रेटर ने अपने हाथों से दुनिया के महान क्रिकेटर सर विव रिचर्ड्स की पेटिंग बनाई है। फोटो-Tweeter/@MoeenAli

सोशल मीडिया पर ट्रोलिंग के जरिये जहालत फैलाने वाले लोग कथित रुप से विकसित देशों में भी मौजूद हैं। ऐसे ही ट्रोलिंग का शिकार हुए हैं ब्रिटेन के क्रिकेटर मोइन अली। मोइन अली पेंटिंग के जरिये चैरिटी करना चाहते थे। इसके लिए उन्होंने खुद से दुनिया के महान क्रिकेटर सर विव रिचर्ड्स की एक पेंटिंग बनाई और अपने ट्विटर फॉलोअर्स से अपील की कि वे इसकी बोली लगाएं। क्रिकेट यूनाइटेड नाम की संस्था इस पेटिंग की नीलामी करने वाली थी। ये संस्था क्रिकट चैरिटी अवैयरनेस कैम्पेन चलाती है। अपने फॉलोअर्स से मदद की उम्मीद लिये बैठे मोइन अली को तब बड़ी निराशा हुई जब कुछ मुस्लिम समुदाय के लोग उनकी मदद करने के बजाय उन्हें इस्लाम पर ज्ञान देने लगे। इन लोगों ने कहा कि आपने इस्लाम के सिद्धांतों की खिल्ली उड़ाई है। क्या आपको पता नहीं है कि इस्लाम में चित्रकारी हराम है?

 

मोइन अली को सलाह देते हुए मोहम्मद उम्मैद नाम के एक शख्स ने लिखा जो कि ट्विटर पर खुद संगीतकार बताता है, ‘ भाई इस्लाम में पेटिंग की आज्ञा नहीं है, फंड जुटाने के लिए तुम कुछ और कर सकते हो, तुम्हारी मंशा ठीक है लेकिन अच्छे कामों को करने के लिए हराम का रास्ता मत चुनो।’ इंजीनियर मोहम्मद जिशान ने लिखा, ‘ क्या आपको नहीं पता है भाईजान, इस तरह की पेटिंग, ड्राइंग बनाने की इस्लाम में अनुमति नहीं है, जहां तक मेरा छोटा सा ज्ञान है।’ सैयद नावेद ने भी लिखा है कि इस्लाम में ऐसी चीजों की मनाही है।’ हालांकि कई यूजर्स ने मोइन अली के पहल की तारीफ भी की और उन्हें मदद करने का वादा किया।

 

बता दें कि 30 साल के मोइन अली ब्रिटेन के बड़े मुस्लिम चेहरों में से एक हैं। मोइन अली दाढ़ी रखते हैं और अपने मजहब का भी पालन करते हैं, लेकिन वे कट्टरता से कोसों दूर हैं। मोइन अली का मानना है कि ब्रिटेन में मौजूद एशियाई समुदाय के लोगों में गजब की क्रिकेटिंग क्षमता है। इस क्षमता को निखारने की जरूरत है और इसे एक प्लेटफॉर्म चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App