ताज़ा खबर
 

पाकिस्‍तान: सुहागरात पर शौहर ने लोहे की रॉड से किया बलात्‍कार, रिसेप्‍शन के दिन मर गई दुल्‍हन

अस्पताल में डॉक्टर को जब इस बारे में पता लगा तो उसने सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट लिखे। यूजर्स में इस रेप की घटना को लेकर उबाल देखने को मिला।
इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

पाकिस्तान में गुरुवार को जघन्य अपराध का एक मामला सामने आया है। सुहागरात के दिन शौहर ने लोहे की रॉड से बीवी के साथ बलात्कार किया। घटना के बाद रिशेप्शन वाले दिन महिला की मौत हो गई। अस्पताल में डॉक्टर को जब इस बारे में पता लगा तो उसने सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट्स लिखे। यूजर्स में इस घटना को लेकर उबाल देखने को मिला। आरोपी शख्स की मानसिक हालत गड़बड़ थी। पीड़िता के परिजन ने इस बाबत पुलिस में शिकायत दी, जिसके बाद मामला दर्ज किया गया। फातिमा शिरीन यहां पर पेशे से डॉक्टर हैं। 13 जनवरी को उन्होंने इस बारे में कुछ ट्वीट्स किए। लिखा, “मेरी एक मरीज की जान अधिक खून बह जाने के कारण चली गई, क्योंकि घाव बहुत गहरे थे। हमने उनके पिता को पोस्टमार्टम के लिए राजी कर लिया है। उसका शौहर मनोरोगी है, जिसने उसके शरीर में लोह की रॉड से बलात्कार किया था।”

इस मासूम बच्‍ची के कत्‍ल से पाकिस्‍तान शर्मसार, कचरे में लाश मिलते ही फूटा लोगों के गुस्‍से का गुबार

अगले ट्वीट में उन्होंने बताया, “सुहागरात पर बलात्कार का शिकार हुई महिला की मौत रिसेप्शन के दिन हुई थी। लोहे की रॉड से बलात्कार किए जाने के कारण उसकी जान गई। ऐसे में हम अपने बच्चों को सेक्स के बारे में क्यों जागरूक नहीं करना चाहते हैं? हमारे समाज को चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए।” बकौल डॉक्टर, “पुलिस में यह मामला तो दर्ज हुआ, लेकिन कोर्ट के निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है। माफ ही कर दिया होगा। आरोपी के पिता भी इस बाबत उसे माफ करने के बारे में सोच रहे थे।”

जैनब रेप केस: पुलिस ने परिवार से मांगे पैसे, बोले- हमने लाश खोजी, 10 हजार रुपए दो

टि्वटर पर लोगों को जब इस बारे में पता लगा तो उन्होंने भी घटना की कड़ी निंदा की। वकार क्यू नाम के हैंडल से कहा गया, “लोग सच में पागल हैं। मैं समझ नहीं पा रहा कि क्या कहूं। अभिभावक नौकरी करना सिखाते हैं, मगर इंसान बनाना नहीं सिखाते। रहम करना नहीं सिखाते।” एक अन्य अकाउंट से लिखा गया, “यह बेटों को महिलाओं की इज्जत करने के बारे में सिखाने का वक्त है। हमारा मुख्य उद्देश्य बेटियों की जिंदगी पर ध्यान देना है, लेकिन हम बेटों को कभी नहीं सिखाते कि महिलाओं की कैसे इज्जत करनी है।” आगे विनय प्रुधवी नाम के यूजर ने कहा, “मेरे पास कहने के लिए शब्द नहीं है। मुझे लगता है कि कायरों को बीच सड़क पर लटका देना चाहिए। उनके साथ किसी प्रकार का रहम नहीं किया जाना चाहिए।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App