ताज़ा खबर
 

बोलिविया के उप गृह मंत्री को खनिकों ने ‘पीट-पीट कर मार डाला’

बोलिविया में खनिक हड़ताल पर हैं। उप गृह मंत्री उनसे वार्ता करने गए थे।

Author August 26, 2016 13:52 pm
बोलिविया में खनिक हड़ताल पर हैं। (तस्वीर- रॉयटर्स)

लैटिन अमेरिकी देश बोलिविया के उप गृह मंत्री को खदान श्रमिकों ने कथित रूप से अपहरण करने के बाद पीट-पीट कर मार दिया। ये जानकारी बोलिविया के रक्षा मंत्री ने गुरुवार को दी। डिप्टी होम मिनिस्टर रोडोल्फो इलैनस खनन कानूनों को लेकर चल रही हड़ताल में मध्यस्थता करने गए थे। समाचार एजेंसी एपी के अनुसार बोलिविया के रक्षा मंत्री रेयमी फेरीरा ने रेड यूनो टेलीविजन पर ये जानकारी दी। फेरीरा ने भर्राई हुई आवाज में बताया कि इलैनस को “बर्बर तरीके” से पीटकर मारा गया। मारने वाले “हड़ताली खनिक” थे। बोलिविया के गृह मंत्री कार्लोस रोमेरो ने हत्या को “कायराना और बर्बर” बताया। हालांकि अभी तक हत्या की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी है।

खदान श्रमिक ज्यादा अधिकारों की मांग कर रहे हैं। खनिक निजी कंपनियों से जुड़ी मांगी भी कर रहे हैं। मंत्री की हत्या के बाद हड़ताल को लेकर तनाव बढ़ने की आशंका है। खनिकों ने सोमवार से ही हाईवे को ब्लॉक कर रखा था जिसके कारण हजारों ट्रकें और गाड़ियां जाम में फंसी हुई हैं। इलैनस खनिकों को बातचीत के लिए मनाने गए थे। गुरुवार को घटना से पहले इलैनस ने ट्वीट किया था, “मेरा स्वास्थ्य अच्छा है। मेरे परिवार वाले शांति से रह सकते हैं।” मीडिया खबरों के अनुसार इलैनस को दिल की बीमारी थी उन्होंने उसे के मद्देनजर ये ट्वीट किया था।

बोलिविया में करीब एक लाख खनिक हैं जो स्वशासी सहकारी संस्थाओं के तहत काम करते हैं। खनिकों की मांग है कि उन्हें निजी कंपनियों से संबंद्ध किया जाए, जो फिलहाल प्रतिबंधित है। सरकार का कहना है कि अगर वो बहुराष्ट्रीय कंपंनियों से जुड़ेंगे तो उनकी सहकारी संस्थाएं भंग हो जाएंगी। द नेशनल फेडेरेशन ऑफ माइनिंग कोऑपरेटिव्स ऑफ बोलिविया ने खनन से जुड़ा कानून निर्माण के विफल होने के बाद अनिश्चितकालीन हड़ताल की घोषणा कर दी। इस यूनियन को पहले देश के राष्ट्रपति एवो मोरालेस का प्रबल समर्थक माना जाता था।

Read Also: शीना बोरा हत्याकांड: टीवी चैनल ने जारी की पीटर मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी की कथित फोन रिकॉर्डिंग

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App