ताज़ा खबर
 

किताब में दावा- सीरिया के राष्ट्रपति की हत्या करवाना चाहते थे डोनाल्ड ट्रंप

किताब में व्हाइट हाउस की आंतरिक कार्य प्रणाली को लेकर कई चौंकाने वाले दावे हैं, उन्हीं में से एक दावा सीरिया के राष्ट्रपति को मौत के घाट उतारने को लेकर ट्रंप के आदेश का है। किताब में बॉब ने लिखा है कि अप्रैल 2017 में सीरियाई सरकार के द्वारा किए गए रासायनिक हमले के बाद अमेरिकी सेना वहां जाने को थी और सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद की हत्या की जानी थी।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (फोटो सोर्स: रॉयटर, फाइल फोटो)

वॉशिंगटन पोस्ट के जाने-माने पत्रकार बॉब वुडवार्ड ने अपनी नई किताब में दावा किया है 2017 में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने रक्षामंत्री को आदेश दिया था कि वहां के राष्ट्रपति बशर अल-असद को मार दिया जाए। हालांकि राष्ट्रपति ट्रंप ने आरोप से इनकार किया है। बुधवार (5 सितंबर) को कुवैत के एक अमीर से मुलाकात के दौरान ट्रंप ने पत्रकारों से कहा, ‘उस पर कभी भी विचार नहीं किया गया था।’ बॉब की किताब में व्हाइट हाउस की आंतरिक कार्य प्रणाली को लेकर कई चौंकाने वाले दावे हैं, उन्हीं में से एक दावा सीरिया के राष्ट्रपति को मौत के घाट उतारने को लेकर ट्रंप के आदेश का है। किताब में बॉब ने लिखा है कि अप्रैल 2017 में सीरियाई सरकार के द्वारा किए गए रासायनिक हमले के बाद अमेरिकी सेना वहां जाने को थी और सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद की हत्या की जानी थी। ट्रंप ने कई लोगों को जान से मारने का आदेश दिया था। उस रासायनिक हमले के लिए सीरियाई सरकार के प्रति वफादार बलों को व्यापक रूप से दोषी ठहराया गया था। हमला खान शेखौन नाम के कस्बे में किया गया था जिसमें 80 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

बुडवार्ड के मुताबिक ट्रंप के कहने पर अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने कहा था कि वह वैसा ही करेंगे लेकिन फोन रखने के बाद उन्होंने अपने स्टाफ से स्पष्ट कर दिया था कि वे ट्रंप की योजनानुसार कदम उठाने नहीं जा रहे हैं। बॉब की किताब के मुताबिक मैटिस ने कहा था, ”हम इनमें से कोई भी काम नहीं करने जा रहे हैं। हम बहुत ज्यादा मापे जा रहा हैं।” किताब के दावे के मुताबिक पेंटागन ने व्यक्तिगत रूप से बसर-अल-असद को निशाना बनाने के बजाय सीरियाई सैन्य बुनियादी ढांचे को बाहर निकालने के लिए हवाई हमलों की योजना बनाई। 7 अप्रैल, 2017 को उन हमलों के बाद, ट्रंप ने अमेरिकी सेना की तारीफ की थी और कहा था कि जवानों ने “संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया का प्रतिनिधित्व किया”।

मैटिस ने बॉब की किताब में किए गए दावे को कोरी कल्पना बताया है। राष्ट्रपति ट्रंप ने मौटिस का बयान ट्वीट किया, जिसमें अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कहा कि वह आमतौर पर काल्पनिक चीजें पढ़ने का लुत्फ लेते हैं, यह साहित्य का अनोखा वॉशिंगटन ब्रांड है और उसके अज्ञात सूत्रों की विश्वस्यनीयता नहीं है। एक और ट्वीट में ट्रंप ने लिखा, ”वुडवार्ड किताब को रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस और जनरल चीफ ऑफ स्टाफ जॉन केली के द्वारा पहले ही झूठा और बदनाम करने वाला करार दिया गया है। अन्य कहानी और उद्धरणों की तरह जनता के ठग ने उसके उद्धरणों से धोखाधड़ी की। वुडवार्ड डेमोक्रेटिक पार्टी के द्वारा संचालित हैं? समय पर ध्यान देते हैं?”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App