ताज़ा खबर
 

खत्‍म हो सकता है पुरुषों का वजूद? रिसर्च में खुलासा- घट रहे हैं Y क्रोमोजोम्स

Y क्रोमोजोम्स हर पीढ़ी में होने वाले जेनेटिक रिकॉम्बिनेशन में हिस्सा नहीं ले पाता है। जेनेटिक रिकॉम्बिनेशन का मतलब जीनों की रिशफलिंग है, जिससे खराब जीन बाहर हो जाते हैं।

जिस भ्रूण में XY क्रोमोजोम होता है वह नर में विकसित होता है, जबकि बिना Y क्रोमोजोम्स वाले भ्रूण यानी कि XX क्रोमोजोम मादा बनते हैं (तस्वीर: Pixabay)

मानव कोशिका में मौजूद Y क्रोमोजोम तेजी से घट रहे हैं। जीव विज्ञानियों और हमारे-आपके लिए इस खबर से उपजी चिंता यह हो सकती है कि एक वक्त ऐसा आ सकता है जब इस धरती से मर्दों का वजूद ही खत्म हो जाए। विज्ञान पत्रिका कनवरसेशन में यह दावा किया गया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक इस जैविक घटना के संभव होने में 46 लाख साल लग सकते हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक यह वक्त लोगों को काफी लंबा लग सकता है, लेकिन अगर आप इस बात को ध्यान में रखकर इस पहलू पर विचार करें कि धरती पर जीवन साढ़े तीन अरब सालों से मौजूद है तो यह समय सीमा काफी चिंता जनकर लगती है। बता दें कि जिस भ्रूण में XY क्रोमोजोम होता है वह नर में विकसित होता है, जबकि बिना Y क्रोमोजोम्स वाले भ्रूण यानी कि XX क्रोमोजोम मादा शिशू के रूप में विकसित होते हैं।वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि 166 मिलियन साल पहले यानी कि जब धरती पर पहला स्तनधारी विकसित हुआ था उस वक्त प्रोटो Y क्रोमोजोम्स की संख्या X क्रोमोजोम्स के बराबर थी।

वैज्ञानिकों के मुताबिक Y क्रोमोजोम्स एक आधारभूत नियम का पालन करता है। जहां हमारी कोशिका में दूसरे क्रोमोजोम्स के दो कॉपी होते हैं, वहीं Y क्रोमोजोम्स की एक ही कॉपी होती है, जो एक पिता प्रजनन प्रक्रिया के दौरान अपने बेटे में हस्तांतरित करता है। इसका मतलब यह है कि Y क्रोमोजोम्स हर पीढ़ी में होने वाले जेनेटिक रिकॉम्बिनेशन में हिस्सा नहीं ले पाता है। जेनेटिक रिकॉम्बिनेशन का मतलब जीनों की रिशफलिंग है, जिससे खराब जीन बाहर हो जाते हैं। जेनेटिक रिकॉम्बिनेशन का फायदा नहीं मिलने से लंबे वक्त में Y क्रोमोजोम्स की गुणवता खराब हो जाती है और इसका नतीजा यह हो सकता है यह जीन जीनोम सिस्टम से पूरी तरह से बाहर हो सकते हैं।

हालांकि वैज्ञानिकों ने तर्क दिया है कि Y क्रोमोजोम्स के खत्म हो जाने का यह भी मतलब नहीं है कि मर्दो की प्रजाति ही खत्म हो जाएगी। शोध में दावा किया गया है कि जिन स्पीशिज में Y क्रोमोजोम्स खत्म हो गया है, वहां भी प्रजनन की प्रक्रिया के लिए नर और मादा का होना जरूरी है। इन मामलों में वैसे जीन्स, जिससे नर भ्रूण का निर्माण होता है, ने दूसरे जीन का सहारा लेकर नर भ्रूण का निर्माण कर रहे हैं। इसका मतलब यह है कि ये प्रजातियां बिना Y क्रोमोजोम्स के नर भ्रूण पैदा कर रही हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App