ताज़ा खबर
 

कश्मीर से 370 हटने के बाद पहली बार भारत आ रहे चीनी राष्ट्रपति, यात्रा से चार दिन पहले किया कन्फर्म

जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान निरस्त होने के बाद ऐसा पहली बार है जब चीनी राजनेता भारत में आ रहे हैं।

Author , नई दिल्ली | Updated: October 9, 2019 1:53 PM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संग चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

भारत-चीन के बीच प्रस्तावित दूसरे अनौपचारिक शिखर सम्मेलन पर संदेह खत्म करते हुए बीजिंग ने चार दिन पहले आधिकारिक तौर पर पुष्टि की कि राष्ट्रपति शी जिनपिंग 11 -12 अक्टूबर को चेन्नई के दौरे पर आएंगे। जिनपिंग के भारत आने की पुष्टि चीन ने पिछले चौबीस घंटों में डिप्लोमेटिक चैनल के जरिए भी की है। जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान निरस्त होने के बाद ऐसा पहली बार है जब चीनी राजनेता भारत में आ रहे हैं। जिनपिंग के भारत आने से पहले चीन ने सकारात्मक संदेश दिए हैं।

मंगलवार को एक बयान में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के बारे में चीन की स्थिति दिल्ली की चिंताओं को स्वीकार करने के लिए “स्पष्ट और सुसंगत” है कि चीन ने उसके बताए स्थान से प्रस्थान कर लिया था। भारत-चीन विवाद पर बीजिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ‘हम भारत और पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे सहित सभी मुद्दों पर बातचीत और परामर्श में शामिल होने और आपसी विश्वास को मजबूत करने का आह्वान करते हैं।’

उल्लेखनीय है कि हाल में पाकिस्तान में चीन के राजदूत याओ चिंग ने एक बयान में कहा कि कश्मीर विवाद के समाधान पर चीन पाकिस्तान के साथ खड़ा होगा और वे कश्मीरियों के लिए काम कर रहे हैं ताकि उन्हें उनके मौलिक अधिकार और न्याय मिल सकें। कश्मीर मामले में चीन के राजदूत के बयान के बाद भारत ने शनिवार को चीन के समक्ष कड़ा विरोध जताया। नई दिल्ली ने कहा कि यह भारत का आंतरिक मामला है।

बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के मंगलवार को चीन पहुंचने के बाद और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की भारत यात्रा से पहले चीन ने एक महत्वपूर्ण बयान में कहा है कि कश्मीर के मुद्दे का समाधान भारत और पाकिस्तान को आपसी बातचीत से निकालना होगा। चीन ने संयुक्त राष्ट्र और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के अपने हालिया संदर्भों को छोड़ते हुए यह बात कही।

गेंग ने शी की भारत यात्रा के बारे में एक सवाल के जवाब में कहा, ‘भारत और चीन के बीच उच्च-स्तरीय आदान-प्रदान की परंपरा रही है। उच्च-स्तरीय यात्रा को लेकर दोनों पक्षों के बीच संवाद हुआ है। कोई भी नई जानकारी जल्द ही बताई जाएगी।’ उन्होंने कहा कि भारत और चीन दुनिया के प्रमुख विकासशील देश हैं और प्रमुख उभरते बाजार हैं। (भाषा इनपुट)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यूपी में जन्मा अल-कायदा चीफ मारा गया, पांच साल पहले आतंकी संगठन में हुआ था शामिल
2 दुनिया की सबसे बड़ी पंचायत में भी पैसों का संकट, इस महीने खाली हो जाएगा खजाना, 1600 करोड़ रुपए से ज्यादा घाटा ढो रहा UN
3 अमेरिका ने चीन की 28 संस्थाओं को किया ब्लैक लिस्ट, तेज हुई व्यापारिक जंग