scorecardresearch

कोरोना का कहर: भारत से ज़्यादा बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति आय, कनाडा देगा एक करोड़ डॉलर मदद

हाल के आंकड़े बताते हैं कि बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति आय भारत से ऊपर निकल गई है।

कोरोना का कहर: भारत से ज़्यादा बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति आय, कनाडा देगा एक करोड़ डॉलर मदद
भारतीय करेंसी 2 हजार रुपए का नोट। (एक्सप्रेस फोटो)।

पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के दौरान गृह मंत्री अमित शाह ने बांग्लादेश को लेकर एक नकारात्मक बात कही थी, जिसका बांग्लादेश के एक मंत्री ने बड़ा तीखा जवाब दिया था। अमित शाह का बयान था कि बांग्लादेश के गरीब लोग भारत में घुसे आ रहे हैं क्योंकि उनके देश में भोजन भी उपलब्ध नहीं है। इस पर बांग्लादेश के मंत्री ने प्रतिक्रिया में कहा था कि रोटी-दाल की हमारे यहां कोई कमी नहीं है। यहां से कोई गरीब रोजी के लिए भारत नहीं जाता। पढ़े-लिखे लोगों के लिए हमारे देश में भले ही रोजगार कम हों, लेकिन अकुशल श्रमिकों के लिए काम की कोई कमी नहीं। मंत्री ने यहां तक कहा था कि उल्टे कुछ भारतीय जरूर हमारे यहां काम करने आते हैं।

इसे बयानबाज़ी को हम राजनीतिक स्टंट की संज्ञा दे सकते हैं लेकिन इधर हाल के आंकड़े बताते हैं कि बांग्लादेश की प्रति व्यक्ति आय भारत से ऊपर निकल गई है। प्रति व्यक्ति आय में हुई इस गिरावट को टेक्निकल माना जा रहा है क्योंकि इसका कारण कोरोना महामारी है। फिर भी ये आंकड़े तो भारत के पीछे रह जाने के प्रमाण तो हैं ही। जो भी हो। फिलहाल, कोरोना से जूझते भारत को इन दिनों विदेशी मदद तो मिल ही रही है। ताजा मदद कनाडा से है। वहां के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने गत दिवस महामारी से लड़ने के वास्ते भारत को एक करोड़ डॉलर की मदद का ऐलान किया है।

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रूडो ने कहा कि विदेश मंत्री मार्क गार्नो ने भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर से सीधी बातचीत की है कि कनाडा भारत को अतिरिक्त मेडिकल सप्लाई में किस तरह से मदद कर सकता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम कनाडा के रेड क्रॉस के माध्यम से भारतीय रेड क्रॉस को एक करोड़ की मदद देने को तैयार हैं।

इस रकम से एंबुलेंस सेवा और पीपीई किट की व्यवस्था करने में मदद मिलेगी। कनाडा के पीएम ने कहा कि जमीनी स्तर पर मदद करने के लिए रेड क्रॉस सर्वोत्तम जरिया है। उन्होंने कहा कि हम संकट की इस घड़ी में भारत के साथ खड़े हैं। हम भारत से आ रही हृदय विदारक तस्वीरों को देख रहे हैं और बहुत व्यथित हैं। इस बीच कनाडा के विदेश मंत्री गार्नो ने एक ट्वीट में बताया कि उनकी भारत के विदेश मंत्री जयशंकर से बात हुई है।

इस बीच आंकड़ों के अनुसार प्रति व्यक्ति आय के लिहाज से बांग्लादेश ने भारत को मात दे दी है। पड़ोसी देश की प्रति व्यक्ति आय 2019-20 में 2,064 डॉलर थी जो 2020-2021 में बढ़कर 2,227 हो गई है। यह नौ प्रतिशत का इजाफा है। इसे टेक्निकल घटाव बताया जा रहा है जो भारत में रहे लॉकडाउन का नतीजा है।

बांग्लादेश के योजना मंत्री एमए मन्नान ने ये आंकड़े एक वर्चुअल मीट में प्रधानमंत्री हसीना वाजेद के सामने पेश किए। बांग्लादेश से पिछड़ने की बाबत एक भारतीय अधिकारी का कहना है कि यह कमी अस्थायी परिघटना है।

बांग्लादेश की अर्थव्यवस्था श्रम-सघन-निर्यातों पर आधारित है। इसकी बिनाह पर यह नन्हा देश भारत की विकास दर का लंबे समय तक मुकाबला नहीं कर सकता। जैसे ही कोविड और लॉकडाउन खत्म होगा। भारत पुनः अपने पड़ोसी से आगे निकल जाएगा।

उल्लेखनीय है कि पिछले साल इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड ने वर्लड इकनॉमिक आउटलुक का डाटा जारी करते हुए भविष्यवाणी कर दी थी कि बांग्लादेश प्रति व्यक्ति आय के लिहाज से भारत से आगे निकल जाएगा। तब इस भविष्यवाणी को लेकर भारत में बड़ा बखेड़ा हुआ था।

पूर्व चीफ इकनॉमिक एडवाइज़र अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा था कि भारत और बांग्लादेश के आंकड़ों की तुलना ही नहीं की जा सकती।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 29-05-2021 at 07:06:25 pm