बांग्लादेश: WAR CRIME में तीन को फांसी की सजा और पांच को मरते दम तक कैद

बांग्लादेश के एक विशेष न्यायाधिकरण ने 1971 में पाकिस्तान के साथ हुए मुक्ति संग्राम के दौरान मानवता के खिलाफ अपराध के दोषी इस्लामवादियों में से तीन को मौत की सजा सुनाई है।

Author ढाका | July 19, 2016 1:23 AM
Sheila Dikshit, Sheila Dikshit son in law, Sheila Dikshit Daughter, Sheila Dikshit son in law News, Sheila Dikshit son in law latest Newsचित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

बांग्लादेश के एक विशेष न्यायाधिकरण ने 1971 में पाकिस्तान के साथ हुए मुक्ति संग्राम के दौरान मानवता के खिलाफ अपराध के दोषी इस्लामवादियों में से तीन को मौत की सजा सुनाई है। इनके अलावा पांच को मृत्युपर्यंत कैद की सजा सुनाई गई है। न्यायमूर्ति अनवारुल हक की अध्यक्षता वाले बांग्लादेश के अंतरराष्ट्रीय अपराध न्यायाधिकरण (आइसीटी-बीडी) के न्यायाधीशों के तीन सदस्यीय पैनल ने इस फैसले की घोषणा की। इनमें से दो आरोपी तो फैसले के वक्त मौजूद थे जबकि छह अन्य फरार हैं। अभियोजन ने सभी आठ आरोपियों पर सामूहिक हत्या, अपहरण, उत्पीड़न और लूट के आरोप लगाए थे।

अभियोजन पक्ष के वकीलों ने कहा कि छह दोषी युद्ध के दौरान पाकिस्तानी सेना के कुख्यात अल बद्र सहायक बल के सदस्य थे। उत्तरी जमालपुर जिले में उन्होंने अपने अत्याचारों से कहर बरपाया था। दो अन्य पाकिस्तान के बंगाली सैन्य समूह राजाकर से थे। यह समूह भी मुक्ति संग्राम के दौरान गठित किया गया था। यह फैसला ऐसे समय आया है जब देश में हाल ही में एक के बाद एक इस्लामवादी आतंकी हमले हो चुके हैं। देशभर में इन हमलों के कारण तनाव है। प्रधानमंत्री शेख हसीना ने इन हमलों के पीछे जमात का हाथ होने के संकेत दिए थे। बांग्लादेश में 1971 के युद्ध अपराधों के मामले में अब तक चार दोषियों को मौत की सजा दी जा चुकी है। प्रधानमंत्री शेख हसीना के 2008 के चुनावी वादे के मुताबिक इस मामले में दोषियों पर मुकदमे की प्रक्रिया शुरू हुई थी।

Next Stories
1 SCS पर पीछे हटने को नहीं तैयार चीन, लड़ाकू विमानों के साथ लगाई गश्त
2 प्री पोल सर्वे में डोनाल्ड ट्रंप से आगे निकलीं हिलेरी क्लिंटन
3 चीन ने दक्षिण चीन सागर में सैन्य अभ्यास की घोषणा की
यह पढ़ा क्या?
X