NRC भारत का अंदरूनी मसला- बंगाल चुनाव और PM के बांग्लादेश दौरे से ऐन पहले बोले हसीना के सलाहकार

बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना के विदेश मामलों के सलाहकार गौहर रिजवी ने कहा कि चीन से हमारा रिश्ता सीमित है, यह भारत के नुकसान पर नहीं हो सकता।

Maitri Setu,Narendra modi, Prime ministerभारत के पीएम नरेंद्र मोदी और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना (फाइल,सोर्स – इंडियन एक्सप्रेस)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को दो दिवसीय दौरे पर बांग्लादेश पहुंचे। पीएम यहां अपनी बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना के साथ मुलाकात करेंगे और दोनों देशों के रिश्तों को आगे ले जाने पर बात करेंगे। इस बीच हसीना के विदेश मामलों के सलाहकार गौहर रिजवी ने भारत को लेकर अहम बयान दिया है। रिजवी ने कहा कि अपने सबसे अहम पड़ोसी भारत के नुकसान पर हम चीन के साथ रिश्ते विकसित करने पर विश्वास नहीं करते।

रिजवी ने भारत में प्रस्तावित नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन (एनआरसी) के मुद्दे को रिजवी ने भारत का अंदरूनी मसला बता दिया। उन्होंने कहा कि यह भारत का अंदरूनी अभ्यास है। आखिर हम अपने द्विपक्षीय रिश्तों में इस मुद्दे को क्यों उठाएं और इसमें हस्तक्षेप करें। अगर छोटी संख्या में भी लोग बांग्लादेशी निकल आते हैं, तो उनका घर जाहिर तौर पर बांग्लादेश होगा। हम उन्हें वापस ले लेंगे। हालांकि, हम उन्हें वापस तभी लेंगे जब हम अपने नियमों के तहत संतुष्ट होंगे।

रिजवी ने इस बयान के साथ उम्मीद जताई कि भारत ऐसा कोई भी कदम जबरदस्ती नहीं उठाएगा। उन्होंने कहा कि हमें नहीं लगता कि भारत ऐसा कुछ करेगा, जैसा म्यांमार में किया गया। लोगों को बिना किसी देश का बना देना। यह भारत का तरीका नहीं है।

चीन से हमारा रिश्ता सीमित: उन्होंने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि चीन से हमारा रिश्ता निवेश और विकास के प्रोजेक्ट्स तक सीमित है। लेकिन इनमें भी हमें बहुत सावधान रहना होगा। हम ऐसी स्थिति में नहीं जाना चाहते, जहां हम कर्ज ले लें और उसे चुका न पाएं। हमने यह श्रीलंका और जिबूती से सीखा। हमें पता है कि अपनी स्वायत्ता की रक्षा कैसे करनी है। हम आजादी की लड़ाई के बाद एक स्वतंत्र देश बने थे।

बॉर्डर पर फेंसिंग जरूरी: भारत के साथ अटूट रिश्तों पर बात करते हुए बांग्लादेशी पीएम के विदेश मामलों के सलाहकार ने कहा, “हमें खुशी होगी अगर भारत सीमाओं पर फेंसिंग पूरी कर लेता है, क्योंकि अच्छे बाड़े, अच्छे पड़ोसी बनाते हैं। इससे सीमा पार करने की घटनाओं पर भी रोक लगती है और अवैध गतिविधियां भी बंद होती हैं। लेकिन इस दौरान हमें पूरी कोशिश करनी होगी कि किसी की जान न जाए।”

Next Stories
1 कोरोना वैक्सीन बनाने वाले सीरम इंस्टिट्यूट के CEO अदार पूनावाला ने UK में लिया आलीशान घर, किराया जान रह जाएंगे हैरान
2 भारत-अमेरिकी संबंध : अहम मुद्दों पर कितनी मजबूती
3 क्या है चीन का ‘पीला तूफान’
यह पढ़ा क्या?
X