बांग्लादेश-पाकिस्तान में तनतनी: एक-दूसरे के दूतावास के कर्मचारियों को हिरासत में लिया, बाद में छोड़ा - Jansatta
ताज़ा खबर
 

बांग्लादेश-पाकिस्तान में तनतनी: एक-दूसरे के दूतावास के कर्मचारियों को हिरासत में लिया, बाद में छोड़ा

बांग्लादेश और पाकिस्तान ने 1971 के युद्ध अपराध के मुकदमे को लेकर उपजे विवाद के बीच एक-दूसरे के दूतावास के कर्मचारियों को थोड़े वक्‍त के लिए हिरासत में ले लिया।

Author ढाका | February 2, 2016 8:22 PM

बांग्लादेश और पाकिस्तान ने 1971 के युद्ध अपराध के मुकदमे को लेकर उपजे विवाद के बीच एक-दूसरे के दूतावास के कर्मचारियों को थोड़े वक्‍त के लिए हिरासत में ले लिया। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि इस्लामाबाद में बांग्लादेशी राजनयिक का पर्सनल ऑफिसर सोमवार को लापता हो गया और मंगलवार सुबह ‘‘सही सलामत’’ घर लौट आया। विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने पीटीआई से कहा, ‘‘इस्लामाबाद में हमारे उच्चायुक्त ने जहांगीर हुसैन (जो लापता हो गए) के लौटने पर उनसे बात की। हम विस्तार से जानना चाहते हैं कि उन्हें वास्तव में हुआ क्या।’’

उन्होंने कहा कि हुसैन सोमवार को कार्यालय से अपनी बेटी को लेने निकले थे, जिसके बाद उन्हें घर लौटना था लेकिन उच्चायोग से बाहर आते ही वह लापता हो गए और उनका मोबाइल फोन भी बंद रहा। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘हमारे उच्चायुक्त ने तुरंत मामले के बारे में पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय और सुरक्षा एजेंसियों को सूचित किया और ढाका में विदेश मंत्रालय को घटना के बारे में बताया।’’ ढाका में पाकिस्तानी उच्चायोग के अधिकारी अबरार अहमद खान की ‘‘संदिग्ध गतिविधियों’’ के लिए पुलिस द्वारा उन्हें हिरासत में लिए जाने के कुछ घंटे बाद यह घटना हुई।

ढाका मेट्रोपोलिटन पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि अबरार खान को संदिग्ध गतिविधियों के बाद पूछताछ के लिए खुफिया एजेंसियों ने हिरासत में लिया और उनसे शपथ पत्र लेने के बाद पाकिस्तान के उच्चायोग को सौंप दिया गया। लेकिन पाकिस्तान उच्चायोग ने ढाका में बयान जारी कर कहा कि ‘‘कीचड़ उछालने के अभियान और मीडिया ट्रायल के बाद हम देख रहे हैं कि हमारे अधिकारियों का उत्पीड़न करने का सिलसिला चल पड़ा है।’’ यह भी कहा कि बांग्लादेश की पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां पाकिस्तानी दूतावास के कर्मचारियों पर आतंकवादियों से संबंध होने के आरोप लगा रही हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App