ताज़ा खबर
 

बांग्लादेश: खालिदा जिया के बेटे को मनी लॉन्ड्रिंग केस में सात साल की कैद

2007 से लंदन में रह रहे रहमान तारिक पर धन शोधन अधिनियम के तहत आरोप लगाया गया था। अदालत ने उस पर 20 करोड़ टका का जुर्माना भी लगाया है।

Author ढाका | July 21, 2016 5:18 PM
बांग्लादेश की विपक्षी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बड़े बेटे तारिक रहमान। (AP Photo/Indrajit Kumer Ghosh, File)

बांग्लादेश की विपक्षी नेता और पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के बड़े बेटे को करीब 25 लाख अमरीकी डॉलर के धन शोधन मामले में गुरुवार (21 जुलाई) को सात वर्ष की जेल की सजा सुनाई गई है। उच्च न्यायालय ने निचली अदालत के उस फैसले को बदल दिया जिसमें 48 वर्षीय तारिक रहमान को धन शोधन के मामले में बरी कर दिया गया था। उच्च न्यायालय की दो सदस्यीय पीठ ने बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के वरिष्ठ उपाध्यक्ष, तारिक रहमान को 2003 से 2007 के बीच में धन शाधन करने के मामले में सजा सुनाई है। फैसले के बाद अदालत के एक अधिकारी ने संवाददाताओं से कहा, ‘उसे (रहमान) उसकी अनुपस्थिति में सजा सुनाई गई है क्योंकि समन भेजे जाने के बाद भी वह अदालत में उपस्थित नहीं हुआ। इससे पहले अदालत ने उसे भगोड़ा घोषित किया था।’

2007 से लंदन में रह रहे रहमान पर धन शोधन अधिनियम के तहत आरोप लगाया गया था। अदालत ने उस पर 20 करोड़ टका का जुर्माना भी लगाया है। एक आश्चर्यजनक फैसले में, ढाका की एक अदालत ने 17 नंवबर, 2013 में रहमान को भ्रष्टाचार के आरोप से बरी कर दिया था लेकिन इसी मामले में उसके दोस्त और व्यापारी भागीदार गयासुद्दीन अल मामुन को सात साल के कारावास की सजा और 40 करोड़ टका का जुर्माना लगाया था। उच्च न्यायालय ने मामुन की सजा को बरकरार रखा है लेकिन उसकी जुर्माना राशि को घटाकर 20 करोड़ टका कर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App