ताज़ा खबर
 

बांग्लादेश में प्रोफेसर को गला रेतकर मार डाला, आईएस ने ली जिम्मेदारी

स्थानीय थाना प्रभारी शहादत हुसैन ने बताया कि हमले के बाद अंग्रेजी साहित्य के प्रोफेसर की तत्काल मौत हो गई और उनकी मौत के बाद हमलावर घटनास्थल से फरार हो गये।

Author ढाका | Updated: April 24, 2016 5:37 AM
Lahore honour killing, honour killing in lahore, honour killing pakistan, honour killing pakistan news, Love marriage Lahore, Mother Killed pregnant Daughter, pakistan honour killingचित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।

पश्चिमोत्तर बांग्लादेश में आईएसआईएस के आतंकवादियों ने शनिवार (23 अप्रैल) को अंग्रेजी के एक प्रोफेसर की उनके घर के पास उस समय हत्या कर दी जब वह अपने विश्वविद्यालय जा रहे थे। मुस्लिम बहुल देश में ब्लॉगरों, बुद्धिजीवियों और कार्यकर्ताओं पर हुए बर्बर हमलों की श्रृंखला में यह ताजा घटना है। पुलिस ने बताया कि राजशाही शहर में राजशाही विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एएफएम रेजाउल करीम सिद्दीकी (58) पर उनके आवास से करीब 50 मीटर दूर मोटरसाइकिल सवार हमलावरों ने हमला किया और धारदार हथियार से उनका गला रेत दिया।

स्थानीय थाना प्रभारी शहादत हुसैन ने बताया, ‘‘सुबह करीब साढ़े सात बजे हमलावरों ने प्रोफेसर पर पीछे से धारदार हथियारों से उस समय वार किया जब वह अपने घर से पैदल विश्वविद्यालय परिसर की ओर जा रहे थे।’’ उन्होंने बताया कि अंग्रेजी साहित्य के प्रोफेसर की तत्काल मौत हो गई और उनकी मौत के बाद हमलावर घटनास्थल से फरार हो गये।

अमेरिका स्थित निजी खुफिया सेवा समूह एसआईटीई ने कहा कि इस्लामिक स्टेट ने हत्या की जिम्मेदारी ली है। उसने एक ट्वीट में कहा कि आईएसआईएस की एजेंसी अमग ने राजशाही विश्वविद्यालय के प्रोफेसर की हत्या के लिए समूह की जिम्मेदारी की रिपोर्ट दी है। इसके पहले राजशाही के पुलिस आयुक्त मोहम्मद शम्सुद्दीन ने घटनास्थल पर संवाददाताओं को बताया कि ‘‘हत्या के तरीके से लगता है कि यह इस्लामी आतंकवादियों का काम हो सकता है।’’

उन्होंने बताया कि प्रोफेसर के गर्दन पर कम से कम तीन बार हमला किया गया। उन्होंने बताया कि हमले की प्रकृति से ऐसा प्रतीत होता है कि यह अतिवादी संगठनों का काम है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस बीच, विश्वविद्यालय के नाराज शिक्षकों और छात्रों ने अपराधियों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग को लेकर विश्वद्यिालय परिसर में रैली निकाली। पिछले वर्ष चार प्रख्यात धर्मनिरपेक्ष ब्लॉगरों की हत्या कर दी गई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 इक्वाडोर में फिर महसूस हुए भूकंप के झटके, मरने वालों की संख्या 600 के पार
2 पनामा पेपर्स लॉ फर्म पर फिर छापा, मोसैक फोंसेका ने कहा- जांच में सहयोग करने के लिए तैयार
3 सिंगापुर: ‘राजद्रोह’ के आरोप में 12 सप्ताह की गर्भवती संपादक को जेल
IPL 2020 LIVE
X