ताज़ा खबर
 

बांग्लादेश: ढाका में फैक्ट्री में लगी भीषण आग, चपेट में आकर अब तक 52 की मौत, बचने के लिए छत से ही कूद गए मजदूर

बचाए गए श्रमिकों और उनके रिश्तेदारों ने आरोप लगाया कि आग लगने के समय कारखाने का एकमात्र निकास द्वार बंद था। उन्होंने यह भी दावा किया कि इमारत में आग से सुरक्षा के कोई उचित उपाय नहीं थे।

बांग्लादेश के ढाका में फैक्ट्री में आग बुझाने में दमकलकर्मियों को खासा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। (फोटो- Reuters)

बांग्लादेश की राजधानी ढाका के बाहरी क्षेत्र में एक फैक्टरी में आग लगने से 52 लोगों की मौत की खबर है। बताया गया है कि हाशेम फूड फैक्ट्री में यह आग कल शाम को लगी थी। लेकिन दमकल विभाग इस भीषण आग को बुझाने में अब तक सफल नहीं हुआ है। इस घटना में 50 से अधिक लोग झुलस गए।

दमकल अधिकारियों के अनुसार नारायणगंज के रूपगंज में शेजान जूस फैक्टरी में एक दिन पहले शाम को आग लग गई। ऐसी आशंका है कि आग इमारत के भूतल से लगी और रसायनों तथा प्लास्टिक की बोतलों की मौजूदगी के कारण तेजी से फैल गई। ‘ढाका ट्रिब्यून’ की खबर के अनुसार, इस हादसे में 52 लोगों की मौत हो गई और 50 से अधिक लोग झुलस गये। भीषण आग से बचने के लिए कई मजदूर इमारत से कूद गए।

जानकारी के मुताबिक, हाशेम फूड्स लिमिटेड के कारखाने की इमारत में आग बुझाने के लिए दमकल की 18 गाड़ियां लगी हुई हैं। इसके अनुसार लोग अपने उन प्रियजनों की तलाश में इमारत के सामने एकत्र हो गए हैं, जो अभी भी लापता हैं। लापता लोगों में से 44 श्रमिकों की पहचान की पुष्टि की गई है। बचाए गए श्रमिकों और उनके रिश्तेदारों ने आरोप लगाया कि आग लगने के समय कारखाने का एकमात्र निकास द्वार बंद था। उन्होंने यह भी दावा किया कि इमारत में आग से सुरक्षा के कोई उचित उपाय नहीं थे।

इस बीच, नारायणगंज जिले के अग्निशमन सेवा के उपनिदेशक अब्दुल्ला अल अरेफिन ने बताया कि आग पर पूरी तरह से काबू पाने में कुछ समय लगेगा। उन्होंने कहा, ‘‘जब तक आग पर काबू नहीं पाया जाता, तब तक यह कहना संभव नहीं है कि इस हादसे में कितना नुकसान हुआ है और आग लगने का कारण क्या है।’’ जिला प्रशासन ने घटना की जांच के लिए पांच सदस्यीय जांच समिति का गठन किया है।

Next Stories
1 हैतीः पूर्व सैनिकों और अमेरिकी नागरिकता रखने वाले लोगों पर राष्ट्रपति की हत्या का शक, 17 लोग हिरासत में
2 US की पाकिस्तान को चेतावनी- तालिबान के सुरक्षित पनाहगाह न बनें, वह साजिश के लिए कर सकता है पुराने ठिकानों का इस्तेमाल
3 विश्व में हर मिनट में भुखमरी से 11 लोगों की हो जाती है मौत- ऑक्सफैम
ये पढ़ा क्या?
X