Australian school allows male Muslim Students to refuse handshakes with women - Jansatta
ताज़ा खबर
 

ऑस्ट्रेलिया के स्कूल में मुस्लिम छात्रों को मिली महिलाओं से हाथ नहीं मिलाने की छूट

‘हर्स्टविले ब्वॉयज कैम्पस ऑफ जॉर्जेज रिवर कॉलेज’ ने हाल में एक पुरस्कार समारोह के दौरान यह वाकया हुआ।

Author मेलबर्न | February 20, 2017 5:13 PM
जॉर्जेज रिवर कॉलेज के हर्स्टविले ब्वॉयज कैम्पस की तस्वीर।

ऑस्ट्रेलिया में एक सरकारी स्कूल के मुस्लिम पुरुष छात्रों को अपने धर्म के पालन के लिये महिलाओं से हाथ नहीं मिलाने की छूट मिली है और इसलिए वे ऐसी प्रथा से इनकार कर सकते हैं। ऑस्ट्रेलिया के अखबार के अनुसार सिडनी स्थित ‘हर्स्टविले ब्वॉयज कैम्पस ऑफ जॉर्जेज रिवर कॉलेज’ ने हाल में एक पुरस्कार समारोह का आयोजन किया था, जिसमें महिला प्रस्तोता भी थीं और प्रधानाध्यापक ने उन महिला प्रस्तोताओं को बताया कि मुस्लिम धर्म मानने वाले कुछ छात्र उनसे हाथ नहीं मिलायेंगे।

‘न्यू साउथ वेल्स’ (एनएसडब्ल्यू) डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन ने इस बात की पुष्टि की है कि हाथ मिलाने के संबंध में कुछ ‘प्राटोकॉल पर स्कूल की सहमति’ रही है। एनएसडब्ल्यू डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन के एक प्रवक्ता ने बताया, ‘स्कूल के वर्ष 2016 प्रस्तुति दिवस पर प्रधानाध्यापक ने पुरस्कार प्रदान करने के लिये आमंत्रित अतिथियों को बताया कि कुछ मुस्लिम छात्र हाथ मिलाने के बजाय अपना हाथ सीने पर रख सकते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘विविधता से भरे ऑस्ट्रेलियाई समुदाय में एक खुले और सहिष्णु माहौल को बढ़ावा देने के मकसद से डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन के स्कूलों के लिये हर छात्र की संस्कृति, भाषा और धार्मिक पृष्ठभूमि को मान्यता एवं सम्मान देना जरूरी होता है।’

ब्रिटेन: रेज्यूमे पर मुस्लिम नाम होने से नौकरी मिलने की संभावना 76 फीसदी हो जाती है कम- रिपोर्ट

ब्रिटेन में मैनेजमेंट के स्तर के किसी पद के लिए आवेदन करने वाले के रेज्यूमे में अगर मुस्लिम नाम हुआ तो फिर नौकरी मिलने की संभावना बहुत कम हो जाती है। एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। ब्रिस्टल विश्वविद्यालय के ‘रिसर्च सेंटर फॉर द स्टडी ऑफ एथिनिसिटी एंड सिटिजनशिप’ के अध्ययन के अनुसार श्वेत ईसाई पुरुषों की तुलना में मुस्लिम पुरुषों के नौकरी पाने की संभावना 76 प्रतीशत कम हो जाती है।

अध्ययन के अनुसार जिस रेज्यमू पर अंग्रेजी का नाम एडम लिखा था तो उसे 12 सकारात्मक जवाब मिले, लेकिन मोहम्मद नाम वाले रेज्यूमे पर सिर्फ चार सकारात्मक जवाब आए। इस अध्ययन से जुड़े प्रोफेसर तारिक मदूद ने कहा, ‘हमने इस बात की पहचान की है कि मुस्लिम नामों वाले रेज्यूमे देने वाले तीन लोगों में से सिर्फ एक को इंटरव्यू देने का मौका मिलता है।’ बीबीसी अपने कार्यक्रम ‘इनसाइड आउट लंदन’ में रिपोर्ट को प्रसारित करेगा।

डोनाल्ड ट्रंप के ‘मुस्लिम बैन’ के आदेश पर रोक बरकरार; फेडरल कोर्ट के आदेश से भड़के ट्रंप

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App