ताज़ा खबर
 

अफ़ग़ानिस्तान में हुए आत्मघाती हमले में मृतकों की संख्या 43 हुई

अधिकारियों ने कहा कि एक आत्मघाती हमलावर सहित कम से कम चार आतंकवादियों को मार गिराया गया और 350 से अधिक लोगों को छुड़ाया लिया गया है।

Author Updated: December 25, 2018 3:44 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में एक सरकारी परिसर में हुए आत्मघाती हमले में मरने वालों की संख्या बढ़कर 43 हो गई है। बता दें की यह जानकारी स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी की गई है। हालाँकि किसी भी आतंकवादी समूह ने अभी तक इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। अफगानिस्तान की राजधानी में इस साल हुआ यह सबसे घातक हमला है। मंत्रालय के प्रवक्ता वहीद मजरोह ने बताया कि सोमवार को हुए इस हमले में करीब 10 लोग घायल हुए हैं। बता दें कि इमारत में लोक निर्माण मंत्रालय तथा अन्य कार्यालय स्थित हैं। दरअसल एक अधिकारी ने घटना कि जानकारी देते हुए कहा कि बहुमंजिला इमारत के सामने एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटकों से लदी अपनी कार को धमाका कर उड़ा दिया। इसके कुछ ही मिनट बाद तीन बंदूकधारी इमारत में घुसे और सुरक्षा बलों के आने के पहले वहां मौजूद लोगों पर गोलियां चलाने लगे।

उन्होंने कहा कि सैकड़ों लोग इमारत के अंदर फंसे थे। हालाँकि इस क्षेत्र में भारी हथियारों से लैस सुरक्षा बलों को तैनात किया गया था जिनकी हमलावरों के साथ भीषण मुठभेड़ हुई। अधिकारियों ने कहा कि एक आत्मघाती हमलावर सहित कम से कम चार आतंकवादियों को मार गिराया गया और 350 से अधिक लोगों को छुड़ाया लिया गया है।

बता दें कि अफगान की राजधानी में पिछले माह हुए एक आत्मघाती हमले के बाद यह भीषण हमला है। उस हमले में एक आत्मघाती हमलावर ने धार्मिक सभा में खुद को उड़ा लिया था, जिसमें कम से कम 55 लोगों की मौत हो गई थी। इस इमारत में युद्ध या आतंकवादी हमलों के दौरान अपनी जान गंवाने वाले सैनिकों या नागरिकों के परिवार के सदस्यों को सेवा प्रदान की जाएगी। यह हमला शाशदराक के पास मैक्रूयान-ए-अवल इलाके में हुआ जहां कई देशों के दूतावास हैं। इसके साथ ही यहां अफगान सरकार के भी कई कार्यालय हैं।

Next Stories
1 चीन के चार शहरों और एक काउंटी में क्रिसमस के दौरान सजावट करने पर प्रतिबंध
2 मिशन 2019: 20 देशों में बसे नरेंद्र मोदी के समर्थक हुए सक्रिय, फोन से वोट डालने की कर रहे अपील
3 पाकिस्‍तान: भ्रष्‍टाचार में पूर्व पीएम नवाज शरीफ को 7 साल की जेल, 17.5 करोड़ रुपए का जुर्माना
ये पढ़ा क्या?
X