ताज़ा खबर
 

56 साल की अंतरिक्षयात्री ने 6.5 घंटे की स्पेसवॉक, बनी ऐसा करने वाली सबसे उम्रदराज महिला

उन्होंने किसी अमेरिकन एस्ट्रोनॉट द्वारा अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा समय बिताने का रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने कुल 377 दिन स्पेस में बिताए।

Author Updated: January 7, 2017 5:42 PM
अमेरिकन अंतरिक्ष यात्री पैगी व्हिटसन। (Photo: Twitter)

पैगी व्हिटसन ऐसी अंतरिक्षयात्री हैं जो अक्सर नए-नए रिकॉर्ड बनाती रहती हैं। 56 वर्षीय पेगी ने शनिवार को नासा के लिए स्पेसवॉक की है। culturess.com के मुताबिक ऐसा करने वाली वह सबसे उम्रदराज महिला बन गई हैं। उनकी यह स्पेसवॉक पूरे 6.5 घंटे तक चली। इससे पहले नवंबर में वह इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन गई थीं और ऐसा करने वाली सबसे उम्रदराज महिला बनी थीं।

उनके इस वर्तमान मिशन का नाम एक्सपीडिशन 50/51 है, इसे खत्म करते ही उन्होंने किसी अमेरिकन एस्ट्रोनॉट द्वारा अंतरिक्ष में सबसे ज्यादा समय बिताने का रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने कुल 377 दिन स्पेस में बिताए। यह उनकी सातवीं स्पेसवॉक थी। इसके साथ ही वह नासा की अंतरिक्षयात्री सुनीता के रिकार्ड के बराबरी कर चुकी हैं। महिला अंतरिक्षयात्री के तौर पर सुनीता के नाम सबसे ज्यादा बार अंतरिक्ष में स्पेसवॉक (चहलकदमी) का रिकार्ड दर्ज है।

एक्सपीडिशन 50 के कमांडर शेन किम्बरौघ और फ्लाइट इंजीनियर पैगी ने अंतरिक्ष स्टेशन के दायीं ओर काम करने के दौरान एडाप्टर प्लेट्स लगाई और छह नई लिथियम ऑयन बैटरियों के लिए बिजली कनेक्शन दिए। यह काम 13 जनवरी को दूसरी बार चहलकदमी के दौरान भी जारी रहेगा। इस बार शेन और यूरोपीय स्पेस एजेंसी के फ्लाइट इंजीनियर थामस पेसक्यूट इस काम को अंजाम देंगे। वर्तमान मिशन में वह 6 महीने तक स्पेस में रहेंगी। वह अगले महीने 57 वां जन्मदिन भी वहीं मनाएंगी। इस मिशन का उद्देश्य नेशनल स्पेस स्टेशन में पावर अपग्रेड करना है।

कैसा बीतेगा आपका पूरा हफ्ता? जानिए पूरे हफ्ते का राशिफल (8 जनवरी- 15 जनवरी)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यूएस राष्ट्रपति चुनाव को प्रभावित करने का आदेश दिया था: अमेरिकी खुफिया विभाग
2 फ्लोरिडा के फोर्ट लॉडरडेल एयरपोर्ट पर फायरिंग, 1 की मौत, 9 घायल
3 दक्षिणी थाईलैंड में बाढ़ से छह की मौत, एक लाख 20 हजार परिवार पर असर