पाकिस्तान की सैन्य सहायता खत्म करने के पक्ष में अमेरिकी सांसद, ट्रंप प्रशासन से कहा - वह इससे हमारे ही लोगों को मारेंगे - american mp want to cut off army Aid To Pakistan Donald Trump Administration they will kill over people - Jansatta
ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान की सैन्य सहायता खत्म करने के पक्ष में अमेरिकी सांसद, ट्रंप प्रशासन से कहा – वह इससे हमारे ही लोगों को मारेंगे

अमेरिका के दो शीर्ष सांसदों ने पाकिस्तान पर आतंकवाद का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए पाकिस्तान को दी जाने वाली सैन्य सहायता में ट्रंप प्रशासन से कटौती करने की मांग की है।

Author June 18, 2017 2:50 PM
डोनाल्ड ट्रंप। (फाइल फोटो)

अमेरिका के दो शीर्ष सांसदों ने पाकिस्तान पर आतंकवाद का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए पाकिस्तान को दी जाने वाली सैन्य सहायता में ट्रंप प्रशासन से कटौती करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि इस्लामाबाद के लिए अमेरिकी हथियारों को हासिल करना मुश्किल कर देना चाहिए। कांग्रेस के समक्ष सुनवाई के दौरान सांसद डाना रोहराबाचेर और टेड पो ने पाकिस्तान पर आतंकवाद में शामिल होने का आरोप लगाया और कहा कि अमेरिका को इन्हें दी जाने वाली सैन्य सहायता में कटौती करनी चाहिए।

रोहराबाचेर ने हाउस फॉरेन अफेयर्स सबकमेटी ऑन टेररिज्म, नॉन-प्रोलिफरेशन एंड ट्रेड हियरिंग ऑन फॉरेन मिलिट्री सेल्स के दौरान कहा, ” हमें यह कहने की जरूरत है कि हम पाकिस्तान जैसे देशों को हथियार मुहैया नहीं कराने जा रहे हैं क्योंकि हमें डर है कि वह इससे हमारे ही लोगों को मारेंगे और हमें पता है कि वह आतंकवाद में शामिल हैं।”

उन्होंने कहा, ”हम जानते हैं कि उन्होंने अब क्या किया है। वह अभी भी डाक्टर अफरीदी :ओसामा बिन लादेन का पता लगाने में मदद की: को तहखाने में रखे हुए हैं। रोहराबाचेर ने कहा, ”हमें हमारी सहायता और हथियार प्रणाली मिस्र जैसे देशों को मुहैया करानी चाहिए जो पश्चिमी सभ्यता सहित सभी सभ्यताओं के लिए मौजूद खतरे के खिलाफ लड़ रहा है और हमें पाकिस्तान जैसे देशों के लिए अमेरिकी हथियारों को हासिल करना और भी कठिन बना देना चाहिए।

हाउस फॉरेन अफेयर्स सबकमेटी ऑन टेररिज्म, नॉन-प्रोलिफरेशन एंड ट्रेड अध्यक्ष सांसद टेड पो ने कहा कि अमेरिका को पाकिस्तान के साथ कुछ समस्याए हैं, पाकिस्तान अमेरिका का वफादार है या सहायता पाने के मुद्दे पर वह खेल कर रहा है।

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App