scorecardresearch

अमेरिका ने देर रात बगदाद में दागी मिसाइलें, ईरान के मिलिट्री जनरल कासिम सुलेमानी की मौत! ट्रंप ने दिया था हमले का आदेश

US Air Strike today at Baghdad airport: पहले से ही अमेरिका और ईरान में तनाव चल रहा है, ऐसे में अमेरिकी हमले में ईरान के शीर्ष सैन्य अधिकारी की मौत से यह तनाव और ज्यादा भड़क सकता है।

Qassem Soleimani , IRAN
ईरान के टॉप मिलिट्री कमांडर कासेम सुलेमानी। (मध्य में) (Office of the Iranian Supreme Leader via AP, File)

इराक में अमेरिका द्वारा किए गए मिसाईल हमले में ईरान के टॉप मिलिट्री कमांडर की मौत होने की खबर आयी है। इराक की शक्तिशाली हशेद अल शाबी पैरामिलिट्री फोर्स ने इस खबर की पुष्टि की है। बता दें कि अमेरिका के इस हमले में हशेद अल शाबी पैरामिलिट्री फोर्स के डिप्टी चीफ अबु मेहदी अल मुहांदिस की भी मौत हो गई है। पहले से ही अमेरिका और ईरान में तनाव चल रहा है, ऐसे में अमेरिकी हमले में ईरान के शीर्ष सैन्य अधिकारी की मौत से यह तनाव और ज्यादा भड़क सकता है।

अमेरिकी हमले में मारे गए जनरल कासिम सुलेमानी ईरान की एलीट Quds फोर्स के हेड थे। एएफपी की एक रिपोर्ट के अनुसार, हशेद अल शाबी ने अपने एक बयान में कहा है कि “हशेद के डिप्टी हेड अबु मेहदी अल मुहांदिस और Quds फोर्स के चीफ कासिम सुलेमानी समेत 8 लोगों की अमेरिकी हमले में मौत हो गई है। अमेरिका ने बगदाद इंटरनेशनल एयरपोर्ट रोड पर उनकी कार पर हमला किया।”

उल्लेखनीय है कि इसी हफ्ते इराक में लोगों की भीड़ ने इराक स्थित यूएस एंबेसी पर हमला किया था। अमेरिका ने इस हमले के लिए ईरान पर आरोप लगाए थे। इसके बाद से ही ईरान और अमेरिका में तनाव चरम पर पहुंच गया था।

कासिम सुलेमानी ईरान की सेना इस्लामिक रिवोल्यूशनरी गार्ड की एलीट यूनिट Quds फोर्स के हेड होने के साथ ही ईरान की इराक पॉलिसी के मुख्य रणनीतिकार भी थे। कासिम इससे पहले कई बार इराक का दौरा कर चुके थे और अमेरिका द्वारा उन्हें प्रतिबंधित भी किया जा चुका था।

अमेरिका के डिफेंस डिपार्टमेंट पेंटागन ने एक बयान जारी कर कहा है कि “अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड के टॉप कमांडर कासिम सुलेमानी को मारने का आदेश दिया था।” पेंटागन ने कहा कि “जनरल कासिम सुलेमानी इराक और क्षेत्र में स्थित अन्य अमेरिकी राजदूतों और दूतावास के अन्य कर्मचारियों पर हमले की योजना बना रहा था। जनरल सुलेमानी और उनकी Quds फोर्स सैंकड़ों अमेरिकी लोगों और अन्य सहयोगी सदस्यों की मौत और हजारों को घायल करने के लिए जिम्मेदार थी।”

इससे पहले ईरान में एक अमेरिकी कॉन्ट्रैक्टर की रॉकेट हमले में हत्या कर दी गई थी। इस पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान को जवाबी कार्रवाई की धमकी दी थी। इसके जवाब में अमेरिका ने बीते मंगलवार को एक एक हवाई हमला कर ईरान द्वारा समर्थित इराक के कट्टरपंथी संगठन खातेब हिजबुल्लाह के 25 लड़ाकों की मार डाला था।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट