ताज़ा खबर
 

अमेरिकी इंटेलिजेंस की रिपोर्ट- ज्यादा खतरनाक परमाणु हथियार जुटा रहा पाकिस्तान, जारी रहेगा भारत पर आतंकी हमला

अमेरिका ने अगाह किया कि पाकिस्तान ने परमाणु हथियारों का निर्माण एवं छोटी दूरी के रणनीतिक हथियारों सहित नए तरह के परमाणु हथियारों, समुद्र आधारित क्रूज मिसाइलों, हवा में छोड़े जाने वाले क्रूज मिसाइल और लंबी दूरी के बैलिस्टिक मिसाइल का विकास करना जारी रखा है।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फोटो सोर्स रॉयटर्स)

अमेरिकी खुफिया विभाग के प्रमुख ने भारत को आगाह करते हुए कहा है कि पाकिस्तान छोटी दूरी के हथियारों सहित नए तरह के परमाणु हथियारों का विकास कर रहा है। पाकिस्तान द्वारा इन हथियारों के निर्माण की वजह से क्षेत्र में तनाव पैदा हो सकता है। नेशनल इंटेलीजेंस के डायरेक्टर डैन कोट्स ने जम्मू में सुंजवां सैन्य शिविर पर हुए पाकिस्तानी आतंकियों के एक समूह के हमले के कुछ दिन बाद यह टिप्पणी की है। कोट्स ने खुफिया मामलों से जुड़ी सीनेट की प्रवर समिति द्वारा विश्वव्यापी खतरों के मसले पर आयोजित की गई सुनवाई के दौरान सांसदों से कहा कि पाकिस्तान छोटी दूरी के रणनीतिक हथियारों सहित नए तरह के परमाणु हथियारों का विकास कर रहा है। उन्होंने अगाह किया कि पाकिस्तान ने परमाणु हथियारों का निर्माण एवं छोटी दूरी के रणनीतिक हथियारों सहित नए तरह के परमाणु हथियारों, समुद्र आधारित क्रूज मिसाइलों, हवा में छोड़े जाने वाले क्रूज मिसाइल और लंबी दूरी के बैलिस्टिक मिसाइल का विकास करना जारी रखा है।

अमेरिका के खुफिया विभाग प्रमुख ने यह भी कहा है कि पाकिस्तान सर्मिथत आतंकी समूह भारत के भीतर हमले जारी रखेंगे और ऐसे में दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने का खतरा है। बता दें कि उनका यह बयान ऐसे समय में आया है जब कुछ दिन पहले जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के हमले में छह भारतीय सैनिकों सहित सात लोगों की मौत हो गई थी।

कोट्स ने सीनेट की प्रवर समिति के समक्ष सुनवाई में कहा, ‘इस्लामाबाद सर्मिथत आतंकी समूह भारत और अफगानिस्तान में हमले की योजना बनाने और हमले करने के लिए पाकिस्तान में अपनी सुरक्षित पनाहगाह का लाभ उठाना जारी रखेंगे।’ पाकिस्तान के किसी आतंकी संगठन का नाम लिए बगैर कोट्स ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने के आसार हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App