ताज़ा खबर
 

ट्रम्प ने नहीं रखी परंपरा की लाज: राष्ट्रपति रहते व्हाइट हाउस को कहा अलविदा, पत्नी मेलानिया ने खुद धन्यवाद पत्र तक नहीं लिखा

अपने आखिरी संदेश में ट्रम्प ने कहा वह अमेरिका के लोगों के लिए हमेशा लड़ते रहेंगे। उन्होंने नए प्रशासन को शुभकामनाएं तो दीं लेकिन नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन का नाम तक नहीं लिया। 

डोनल्ड ट्रंप अपनी पत्नी के साथ। फोटो सोर्स – PTI

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प अपने कार्यकाल के दौरान अपने अनूठे बर्चाव के लिए खासे चर्चित रहे। वह अक्सर परंपराओं से हटकर फैसले लेने के लिए जाने जाते रहे। चाहे वो उनका उत्तर कोरिया का दौरा हो या फिर ईरान और चीन के साथ तल्ख संबंध। राष्ट्रपति के तौर पर अपने आखिरी क्षणों में भी वह अपने व्यक्तित्व में बदलाव नहीं कर सके। ट्रम्प ने परंपरा की लाज तक नहीं रखी। उन्होंने राष्ट्रपति रहते व्हाइट हाउस को कहा अलविदा कहा। यहां तक कि पत्नी मेलानिया ने खुद धन्यवाद पत्र तक नहीं लिखा। अपने आखिरी संदेश में ट्रम्प ने कहा वह अमेरिका के लोगों के लिए हमेशा लड़ते रहेंगे। उन्होंने नए प्रशासन को शुभकामनाएं तो दीं लेकिन नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन का नाम तक नहीं लिया।

उनके स्टाफ ने नए प्रशासन के लिए नोट तैयार किया था, जिसमें परंपरा का निर्वाह किया गया था, लेकिन ट्रम्प ने इसकी अनदेखी की। इस नोट को
ज्वाइंट बेस एंड्रयूज में ट्रम्प के लिए रखा गया था, लेकिन सुबह व्हाइट हाउस में दिए संदेश के बाद इसे वहां से हटा लिया गया। ज्वाइंट बेस से दिए सदेश में ट्रम्प ने अपने परिवार का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा, उनके परिवार ने कितनी मेहनत की, लोग नहीं जानते। उनका परिवार एक सहज जीवन को अपना सकता था लेकि्न उन्होंने अमेरिका के लिए बेहतरीन काम करने में कसर नहीं छोड़ी।

ट्रम्प ने नए राष्ट्रपति जो बाइडेन के लिए नोट तो छोड़ा लेकिन अभी यह पता नहीं चल सका कि उसमें क्या लिखा। परंपरा के हिसाब से अमेरिकन राष्ट्रपति अपने बाद आने वाले राष्ट्रपति को बधाई और शुभकामना देते रहे हैं। उनकी पत्नी मेलानिया ट्रम्प ने परंपरा के तहत जिल बाइडेन के लिए नोट लिखा पर वेलकम के अलावा और क्या लिखा, इसके बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं मिल सकी। परंपरा के तहत राष्ट्रपति व्हाइट हाउस छोड़ने से पहले एक नोट लिखकर जाते हैं। इसमें वह बधाई के साथ जरूरी सलाह का भी उल्लेख करते हैं। इसे रेजोल्यूट डेस्क पर रखा जाता है। नए राष्ट्रपति झब पहली बार ओवल आफिस में जाते हैं तो इस नोट को सबसे पहले पढ़ते हैं।

ट्रम्प ने परंपरा को धता बताने में कहीं भी गुरेज नहीं किया। उन्होंने वाशिंगटन डीसी से अपनी आखिरी यात्रा एयर फोर्स वन में की। पत्नी मेलानिया के साथ वो फ्लोरिडा चले गए। एयर फोर्स वन का इस्तेमाल केवल अमेरिका के राष्ट्रपति ही कर सकते हैं। लेकिन ट्रम्प ने जिस तरह समय से पहले व्हाइट हाउस छोड़ा, उसका मतलब है कि वह अभी राष्ट्रपति हैं और एयरफोर्स वन में यात्रा करने का हक रखते हैं। परंपरा के तहत व्हाइट हाउस छोड़ने वाले राष्ट्रपति को विशेष विमान की सुविधा दी जाती है। इसे स्पेशल एयर मिशन कहा जाता है। बराक ओबामा 44वें राष्ट्रपति थे। उन्हें जित फ्लाइट में भेजा गया, उसका नाम स्पेशल एयर मिशन 44 था।

व्हाइट हाउस के एक सूत्र का कहना है कि ट्रम्प ने अपनी आखिरी रात काम करते हुए गुजारी। मध्यरात्रि तक वह माफीनामों पर दस्तखत के साथ कुछ जरूरी फाइलों पर काम करते रहे। रात में 10 बजे तक उनकी बेटी इवांका उनके साथ रहीं। ध्यान रहे कि इवांका हाल के दिनों में गैर हिंसक मामलों में पकड़े गए अपराधियों को माफी दिलाने के लिए काम करती रही हैं। इवांका और उनके दामाद एयरफोर्स वन पर उनके साथ नहीं देखे गए।

दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र कहे जाने वाले अमेरिका में सत्ता के लिए पहली बार ऐसा कुछ हुआ, जिसे दुनिया ने देखा। गत 6 जनवरी को हजारों ट्रम्प समर्थकों ने संसद पर धावा बोल दिया और सुरक्षा व्यवस्था को तोड़कर सैकड़ों परिसर में घुस गए। परिसर में जमकर तोड़फोड़ की और गोलियां चलाई।
पुलिस के साथ हुई झड़प में चार लोगों की मौत हो गई। उसके बाद डेमोक्रेटिक-नियंत्रित अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने राष्ट्रपति ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को पास किया।

Next Stories
1 Joe Biden Inauguration: बाइडेन प्रशासन ने दिए चीन पर हमलावर रुख रखने के संकेत, नवनिर्वाचित विदेश मंत्री बोले- मजबूती से करना होगा सामना
2 फेयरवेल स्पीच में पत्नी ने डोनाल्ड ट्रंप को दिखाया आईना, बोलीं- हिंसा को कभी उचित नहीं ठहराया जा सकता
3 व्यक्तित्व,उजरा जेया : बाइडेन के विदेश मंंत्रालय में वरिष्ठ सचिव
यह पढ़ा क्या?
X