ताज़ा खबर
 

जैक मा नहीं रहे चीन के सबसे अमीर व्यक्ति, इस शख्स ने पछाड़ा, भारत में है बड़ा निवेश

टेनसेंट कंपनी के मालिक मा हुआतेंग अब चीन के सबसे अमीर व्यक्ति हैं, उनकी संपत्ति अब 3.78 लाख करोड़ रुपए पहुंच गई है।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र बीजिंग | Updated: June 25, 2020 4:53 PM
चीन की टेनसेंट कंपनी के मालिक मा हुआतेंग (दाएं) अलीबाब के जैक मा (बाएं) को पीछे कर देश के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं। (फोटो- फॉर्च्यून)

कोरोनावायरस संक्रमण से जूझने के बावजूद चीन में सबसे अमीरों की लिस्ट में बदलाव जारी है। ताजा जानकारी के मुताबिक, अलीबाबा के जैक मा अब चीन के सबसे अमीर आदमी नहीं हैं। उन्हें पीछे कर इंटरनेट कंपनी टेनसेंट के संस्थापक मा हुआतेंग (पोनी मा) चीन के सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं। पोनी मा की संपत्ति चीन की पटरी पर लौटती अर्थव्यवस्था के साथ ही 50 अरब डॉलर (करीब 3.78 लाख करोड़ रुपए) के पार पहुंच गई है, जबकि जैक मा की संपत्ति 48 अरब डॉलर (3.62 लाख करोड़ रुपए) है।

बताया गया है कि इस हफ्ते टेनसेंट के स्टॉक में काफी बढ़त दर्ज की गई है। इसके बाद पोनी मा की वर्थ में भी इजाफा हुआ। गौरतलब है कि पोनी मा ने 1998 में टेनसेंट शुरू की थी। इससे पहले वे चीन की एक टेलिकॉम कंपनी में रिसर्च और इंटरनेट पेजिंग सिस्टम के डेवलपमेंट की नौकरी कर रहे थे। पोनी मा ने चीन की ही शेनजेन यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर और अप्लाइड इंजीनियरिंग में साइंस की डिग्री हासिल की थी।

सोशल मीडिया मैसेजिंग ऐप वी चैट बनाने वाली कंपनी है टेनसेंट
पोनी मा की कंपनी टेनसेंट होल्डिंग्स लिमिटेड चीन की सबसे बड़ी इंटरनेट कंपनियों में से एक है। सोशल मीडिया ऐप ‘वी चैट’ की निर्माता कंपनी पहली बार 16 जून 2004 को हॉन्गकॉन्ग स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट हुई थी। यह कंपनी ऑनलाइन वीडियो गेम, वीडियो, लाइव स्ट्रीमिंग, न्यूज, म्यूजिक और लिटरेचर के डिजिटल प्रोडक्शन में भी काम करती है। गेमिंग की दुनिया में PUBG और ऑनर ऑफ किंग जैसे बड़े गेम भी टेनसेंट ने ही बनाए हैं।

टेनसेंट कंपनी के भारत के स्टार्टअप्स में कई निवेश हैं कंपनी ने पिछले कुछ सालों में BYJU से लेकर फ्लिपकार्ट तक में निवेश किया है। कुल मिलाकर मा हुआतेंग की यह कंपनी भारत की 15 स्टार्टअप्स और बड़ी कंपनियों में शेयर होल्डर है। इनमें स्विगी, ड्रीम-11, फ्लिपकार्ट, हाईक और प्रैक्टो शामिल हैं। वैश्विक स्तर पर टेनसेंट ने करीब 800 फर्म्स में इन्वेस्टमेंट किया है। इनमें 160 यूनिकॉर्न कंपनियां हैं।

Next Stories
1 अफगानिस्तान में तीन भारतीयों को आतंक का स्पॉन्सर घोषित कराने की कोशिश में पाक
2 ट्रंप ने H-1B वीजा पर साल के अंत तक के लिए लगाई रोक, भारतीयों को झटका, पिचाई ने जताई चिंता
3 अब चीन ने जापान में सेनकाकू द्वीप पर जताया अपना दावा, कहा- ये हमारा हिस्सा
ये पढ़ा क्या?
X