अमेरिका: अटॉर्नी जनरल ने दिया डोनाल्ड ट्रंप को झटका, ‘रूसी जांच’ से खुद को किया अलग

ट्रंप ने कहा था कि उन्हें जेफ सेशंस पर ‘पूरा’ भरोसा है और उन्हें रूसी जांच से खुद को अलग नहीं करना चाहिए।

Author वॉशिंगटन | Updated: March 3, 2017 3:41 PM
US, Travel ban, Muslim ban, 6 Muslim Countries, Religious discrimination, Judicial overreach, Supreme court, Refugeeअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप। (REUTERS/Joshua Roberts/22 Jan, 2017)

अमेरिका के अटॉर्नी जनरल जेफ सेशंस ने वर्ष 2016 में हुए राष्ट्रपति पद के चुनाव के दौरान रूस अधिकारियों के साथ अपने कथित संबंधों की किसी भी जांच से खुद को अलग कर लिया है। सेशंस ने एक बयान में कहा, ‘मैंने अमेरिकी चुनाव अभियान से संबंधित किसी भी तरह की मौजूदा या भविष्य में की जाने वाली जांच से खुद को अलग करने का निर्णय लिया है।’ उनका यह बयान अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान के बाद आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें जेफ सेशंस पर ‘पूरा’ भरोसा है और उन्हें रूसी जांच से खुद को अलग नहीं करना चाहिए।

बहरहाल सेशंस ने ट्रंप की इच्छा के विरुद्ध जाने का निर्णय लिया। सेशंस ने कहा, ‘घोषणा को इस तरह नहीं लेना चाहिए कि ऐसी कोई जांच चल रही है तो यह उसकी पुष्टि है या फिर भविष्य में ऐसी कोई जांच कराये जाने की कोई संभावना है।’ उन्होंने कहा, ‘व्यवस्था के अनुरूप कार्यवाहक उप अटॉर्नी जनरल और पूर्वी वर्जीनिया जिले के अमेरिकी अटॉर्नी डेन बोनेट उन सभी मामलों में अटॉर्नी जनरल के दायित्वों का निर्वाह करेंगे, जिनसे मैंने खुद को अलग कर लिया है।’

डोनाल्ड ट्रंप विवाद के केंद्र में हैं अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक

ट्रंप प्रशासन के रूस के साथ रिश्तों को लेकर एक के बाद एक होने वाले विवादों में एक बात आम है और वह है अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक। मॉस्को के यह शीर्ष राजनयिक रूस के साथ ट्रंप के सलाहकारों के रिश्तों की जांच के केंद्र में हैं। कुछ ही सप्ताह में सरगेई के साथ संबंध के चलते राष्ट्रपति के शीर्ष सलाहकार को बर्खास्त कर दिया गया और गुरुवार (2 मार्च) को अटॉर्नी जनरल जेफ सेशन्स के भी इस्तीफे की मांग उठने लगी। व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने इस बात की आधिकारिक तौर पर पुष्टि कर दी कि ट्रंप के दामाद जेयर्ड कुशनेर और पद से हटाए गए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार माइकल फ्लिन ने दिसंबर में ट्रंप टावर में सरगेई से मुलाकात की थी। अधिकारी ने इसे एक संक्षिप्त शिष्टाचार भेंट बताया।

गुरुवार के मुद्दे में सेशन्स और सरजेई के बीच जुलाई और सितंबर में हुई दो बैंठकें थीं। यह मुद्दा ऐसे समय पर उठा है जब डेमोक्रेटिक पार्टी के आधिकारिक ईमेल खातों की हैकिंग में रूस की संलिप्तता की चर्चा चरम पर है। खुफिया अधिकारियों ने यह भी पुष्टि की थी कि मास्को ने चुनाव को ट्रंप के पक्ष में ले जाने के लिए हैकिंग का आदेश दिया था। रूसी दूतावास से टिप्पणी के लिए संपर्क नहीं किया जा सका।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 डोनाल्ड ट्रंप विवाद के केंद्र में हैं अमेरिका में रूस के राजदूत सरगेई किसल्याक
2 भारत का निर्यात बढ़ने से डरा चीनी मीडिया, लिखा- इसे नजरअंदाज किया तो परिणाम भुगतने होंगे
3 हाफिज सईद के बेटे का वीडियो आया सामने, भीड़ से नारा लगवाया- मोदी से लेंगे आजादी, दाऊद बनोगे हां भाई हां
ये पढ़ा क्या...
X