ताज़ा खबर
 

तालिबान को प्रोत्साहन देने पर अफगान राजदूत ने पाक पर बोला हमला

पाकिस्तान पर करारा हमला करते हुए अफगानिस्तान ने कहा है कि हमारे सीमांत के बाहर राज्य ढांचों के भीतर के गलियारे ने तालिबान को प्रोत्साहन देने के लिए हिंसक बर्ताव और विचारधारा का इस्तेमाल किया।
Author संयुक्त राष्ट्र | May 13, 2016 05:52 am
अफगानिस्तान का नक्शा। (एपी फोटो)

पाकिस्तान पर करारा हमला करते हुए अफगानिस्तान ने कहा है कि हमारे सीमांत के बाहर राज्य ढांचों के भीतर के गलियारे ने तालिबान को प्रोत्साहन देने के लिए हिंसक बर्ताव और विचारधारा का इस्तेमाल किया। तालिबान आज के आतंकवादियों का प्रणेता बन गया है और पूरी दुनिया में जानलेवा हमलों को अंजाम दे रहा है। संयुक्त राष्ट्र में अफगानिस्तान के उप स्थायी प्रतिनिधि नजीफुल्ला सलारजई ने कहा, ‘‘1994 में अफगानिस्तान के पैदा होने से दुनिया में आतंकवाद के मौजूदा दुखद अध्याय की शुरुआत हुई। अल कायदा, अल-शबाब, बोको हराम और दाएश समेत विभिन्न आतंकवादी समूहों से पहले तालिबान अस्तित्व में आया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘एक तरीके से तालिबान और उसके समर्थकों ने उस तरह के आतंक को चित्रित किया जिसे आज हम दुनियाभर में विभिन्न अतिवादी समूहों से देख रहे हैं।’’ पाकिस्तान का नाम लिए बिना सलारजई ने राजनैतिक उद्देश्यों की तलाश में विचारधारा और हिंसक बर्ताव का इस्तेमाल करके तालिबान को समर्थन देने और प्रोत्साहन देने को लेकर पड़ोसी देश पर दोषारोपण किया।

उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में ‘काउन्टरिंग द नैरेटिव्स एंड आइडियोलॉजीज’ विषय पर बुधवार (11 मई) यहां खुली चर्चा में कहा, ‘‘धार्मिक संगठन ने, नारेबाजी के साथ-साथ अफगानिस्तान में लंबे समय तक चले संघर्ष से उभरी कमजोरी का फायदा उठाकर तालिबान के लिए कार्यकर्ता भर्ती करने का सबसे सस्ता और आसान तरीका निकला। इस मामले में विचारधारा और हिंसक बर्ताव का इस्तेमाल हमारी सीमा के बाहर राज्य ढांचे के भीतर के गलियारों ने राजनैतिक उद्देश्यों की तलाश में किया।’’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.