ताज़ा खबर
 

अफगानिस्तानः राष्ट्रपति अशरफ गनी के शपथ ग्रहण समारोह के पास बम विस्फोट व फायरिंग, मंच पर मची अफरा-तफरी

मंच पर से कुछ महिलाएं भाग कर पीछे जाती दिखीं। हालांकि, गनी उस दौरान वहां खड़े रहे और उनके सुरक्षाकर्मी सक्रिय हो गए थे। फिलहाल धमाकों और फायरिंग के पीछे का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है।

Ashraf Ghani, Ashraf Ghani Oath, Ashraf Ghani Oath Ceremony, Explosions, Firing, Video, Ashraf Ghani, Kabul, Afghanistan, International News, Hindi Newsअफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी। (फाइल फोटोः AP)

अशरफ गनी ने सोमवार को अफगानिस्तान के राष्ट्रपति के तौर पर दूसरी बार शपथ ली। राजधानी में कार्यक्रम के दौरान वह जब राष्ट्रपति पद की शपथ ले रहे थे, तब वहां दो विस्फोट हुए थे। फायरिंग भी हुई।

समाचार एजेंसी ANI ने शपथ ग्रहण के दौरान का वीडियो जारी किया है, जिसमें धमाके और फायरिंग की आवाज साफ सुनाई दे रही थी।

28 सेकेंड्स की क्लिप में गनी पोडियम पर खड़े जनता को संबोधित कर रहे थे, तभी धमाकों और फायरिंग की आवाजें आने लगीं।

मंच पर से कुछ महिलाएं भाग कर पीछे जाती दिखीं। हालांकि, गनी उस दौरान वहां खड़े रहे और उनके सुरक्षाकर्मी सक्रिय हो गए थे। फिलहाल धमाकों और फायरिंग के पीछे का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है।

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, राष्ट्रपति भवन में दो जगह सैंकड़ों लोग राष्ट्रपति और उन्हें चुनौती देने वाले अब्दुल्ला अब्दुल्ला के शपथ ग्रहण समारोह देखने के लिए जमा थे। तभी विस्फोट की आवाज आई और उनमें से कुछ वहां से भागने भी लगे।

वैसे, गनी ने इसके बाद वहां मौजूद लोगों से कहा, ‘‘मैंने कोई बुलेटप्रूफ जैकेट नहीं पहना है। सिर्फ शर्ट ही पहन रखा है। मुझे अपनी जान ही क्यों न गंवानी पड़े, मैं तब भी यहां रूकूंगा।’’

दरअसल, सोमवार को निवर्तमान राष्ट्रपति अशरफ गनी के दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ ग्रहण करने के कुछ ही मिनट बाद विपक्ष के नेता अब्दुल्ला अब्दुल्ला ने खुद को भी राष्ट्रपति के तौर पर पेश कर दिया था। देश में इसके बाद राजनीतिक संकट गहरा गया है और तालिबान के साथ आगामी शांति वार्ता को लेकर आशंकाएं बढ़ गईं।

पिछले साल सितंबर में हुए चुनाव में गनी को विजेता घोषित किया गया था, पर अब्दुल्ला ने मतदान को चुनौती दी थी और उन्होंने अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ एक समांतर समारोह में अफगानिस्तान की स्वतंत्रता, राष्ट्रीय संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को अक्षुण्ण रखने की शपथ ली।

Next Stories
1 पाकिस्तान में 1000 साल पुराने मंदिर के 70 साल बाद खुले दरवाजे, तीन पीढ़ियां एक साथ कर रहीं पूजा
2 VIDEO: महिलाओं के पैदल मार्च पर लाल मस्जिद से बरसाए गए पत्थर, सोशल मीडिया पर लोग बोले- पाकिस्तान में गधे के रूप में जन्म लेना ज्यादा बेहतर
3 दिल्ली सांप्रदायिक हिंसा पर बांग्लादेश में भूचाल: सड़कों पर उतरे हजारों लोग, पीएम मोदी का दौरा रद्द करने की मांग
यह पढ़ा क्या?
X