scorecardresearch

काबुल में फ‍िदाईन हमले में 19 मौतें: चश्‍मदीद ने बताया- क्लास में कुर्सियों और मेजों के नीचे पड़े थे शव, 9 को हमने निकाला

Afghanistan Blast: काबुल सिक्योरिटी कमान के प्रवक्ता खालिद जादरान ने बताया कि आमतौर पर शुक्रवार के दिन अफगानिस्तान के स्कूल और शिक्षण संस्थान बंद रहते हैं, लेकिन काज इंस्टीट्यूट में एंट्रेंस एग्जाम के लिए छात्र वहां मौजूद थे।

काबुल में फ‍िदाईन हमले में 19 मौतें: चश्‍मदीद ने बताया- क्लास में कुर्सियों और मेजों के नीचे पड़े थे शव, 9 को हमने निकाला
काबुल में एक शिक्षण संस्थान में आत्मघाती बम विस्फोट (Photo Credit-Twitter/ Kabul-based Tolo News)

Afghanistan Blast: अफगानिस्तान के काबुल में एक शिक्षण संस्थान में आत्मघाती बम विस्फोट में 19 लोगों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि प्रवेश परीक्षा के लिए छात्र शिक्षण संस्थान आए थे। चश्मदीदों के मुताबिक, क्लासरूम के अंदर कुर्सी और मेजों के नीचे शव पड़े हुए थे।

समाचार न्यूज एजेंसी रायटर्स ने काबुल पुलिस के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि आत्मघाती विस्फोट में 19 लोगों की मौत हो गई और 27 अन्य घायल हो गए हैं। कहा जा रहा है कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है।

अफगानी मीडिया हाउस टोलो न्यूज ने विस्फोट को लेकर ट्विटर पर एक पोस्ट भी किया है। इसके मुताबिक, काबुल के काज शिक्षण संस्थान में यह हमला हुआ है। टोलो न्यूज ने काबुल सिक्योरिटी कमान के प्रवक्ता खालिद जादरान के हवाले से कहा कि छात्र संस्थान में प्रवेश परीक्षा के लिए आए थे।

रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, जादरान ने बताया कि आमतौर पर शुक्रवार के दिन अफगानिस्तान के स्कूल और शिक्षण संस्थान बंद रहते हैं, लेकिन काज इंस्टीट्यूट में एंट्रेंस एग्जाम के लिए छात्र वहां मौजूद थे।

उन्होंने कहा, “नागरिकों के ठिकानों पर हमला करना दुश्मन की अमानवीय क्रूरता और नैतिक मानकों की कमी को साबित करता है।” रिपोर्ट में कहा गया कि मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना है, अस्पताल के एक अज्ञात सूत्र ने मृतकों की संख्या 23 बताई, जबकि तालिबान के एक सूत्र ने दावा किया कि मरने वालों का आंकड़ा 33 हो गया है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर मृतकों की संख्या फिलहाल 19 ही बताई जा रही है।

स्थानीय निवासी गुलाम सादिक ने रॉयटर्स को बताया कि जिस वक्त यह विस्फोट हुआ, वह उस समय अपने घर पर ही थे। उन्होंने बताया कि जब उन्होंने तेज आवाज सुनी और शिक्षण संस्थान से उठ रहे धुएं को देख कर वह बाहर आए। उन्होंने बताया कि यह सब देखकर वह तुरंत मदद के लिए लोगों के पास गए।

सादिक ने कहा, “मैं और मेरे दोस्तों ने घटनास्थल से करीब 15 घायलों और 9 शवों को बाहर निकाला… अन्य शव कक्षा के अंदर कुर्सियों और मेजों के नीचे पड़े थे।” पश्चिमी क्षेत्र में रहने वाले लोगों में से कई हजारा समुदाय से हैं, जो एक जातीय अल्पसंख्यक हैं। इन लोगों को आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट द्वारा शुरू किए गए पिछले हमलों में निशाना बनाया गया था।

पढें अंतरराष्ट्रीय (International News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 30-09-2022 at 02:21:52 pm
अपडेट