ताज़ा खबर
 

सीरिया के खूनी संघर्ष का प्रतीक बना 5 साल का उमरान, तस्‍वीर देखकर सदमे में दुनिया

यह बच्‍चा सीरियाई शहर अलेप्‍पो के नजदीक हुए एक हवाई हमले के बाद मलबे की चपेट में आने से बुरी तरह घायल हो गया था।

Author नई दिल्‍ली | August 18, 2016 3:40 PM
ओमरान दाकनिश उन पांच बच्‍चों में से एक है, जो हवाई हमले में घायल हो गए थे। (Picture: AP)

पांच साल का उमरान दाकनिश सीरिया में जारी खूनी संघर्ष और वहां की त्रासदी का नया प्रतीक बन गया है। उसकी तस्‍वीर सोशल मीडिया में वायरल हो गई है। तस्‍वीर को हजारों बार शेयर किया गया है। पूरी दुनिया इसे देखकर सदमे में हैं। यह बच्‍चा सीरियाई शहर अलेप्‍पो के नजदीक हुए एक हवाई हमले के बाद मलबे की चपेट में आने से बुरी तरह घायल हो गया था। हवाई हमला रूस या सीरियाई सरकार के लड़ाकू विमानों में से किसने किया यह फिलहाल साफ नहीं है।

उमरान की यह तस्‍वीर अलेप्‍पो के एक डॉक्‍टर ने खींचकर मीडिया को भेजी थी। उमरान का घर विद्रोहियों के कब्‍जे वाले अलेप्‍पो के उपनगरीय इलाके में स्‍थ‍ित था। बुधवार को हुए हवाई हमले में उसका घर तबाह हो गया। अलेप्‍पो मीडिया सेंटर ने एक वीडियो जारी किया है, जिसमें राहतकर्मी एक मकान के मलबे से उमरान को बाहर निकालते नजर आते हैं। हालांकि, इस दौरान वो रोता नहीं है। इसके बाद, उमरान को एक ऐसे अस्‍पताल ले जाया गया, जो खुद हवाई हमले की चपेट में आ गया था। यहां डॉक्‍टरों ने उसके सिर में लगी चोट का इलाज किया। उसके शरीर पर लगी धूल और खून को साफ किया। बाद में उसे जाने दिया गया। डॉक्‍टरों को इस बात की जानकारी नहीं है कि बच्‍चे के माता-पिता कहां हैं? एक अन्‍य वीडियो में ओमरान सीट पर बैठा नजर आता है। वह बेहद शांत है और वह सिर से लेकर पांव तक धूल से ढका हुआ है। वह अपना बायां हाथ उठाकर सिर और आंख पर लगे खून को साफ करता है।

हा‍ल के हफ्तों में अलेप्‍पो में जारी संघर्ष तेज हो गया है। यह संघर्ष विद्रोहियों और सीरियाई प्रेसिडेंट बशर अल असद व उनके सहयोगी रूस के बीच जारी है। रेड क्रॉस की इंटरनेशनल कमेटी ने इसे आधुनिक वक्‍त का सबसे भयानक संघर्ष करार दिया है। अलेप्‍पो में हुए जानमाल के नुकसान के बाद रूसी अधिकारियों ने कहा है कि वे अमेरिकी अफसरों से बात करके इस जंग को खत्‍म करने का रास्‍ता निकालने की कोशिश कर रहे हैं।

नीचे देखें उमरान का वीडियो

सोशल मीडिया ने ऐसे दी प्रतिक्रिया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App