ताज़ा खबर
 

यूएस के अफगानिस्तान पर गिराए गए GBU-43 बम से ढेर हुए IS के 36 आतंकी: अफगान अधिकारी

अधिकारियों ने इसमें किसी नागरिक के हताहत होने से इंकार किया है

MOAB का नाम ‘मदर ऑफ ऑल बम’ है।

अमेरिकी सेना के सबसे बड़े गैर परमाणु बम हमले में कम से कम 36 आतंकवादी मारे गये। हमले में इस्लामिक स्टेट समूह का गहरा सुरंग परिसर तबाह हो गया। यह जानकारी अफगान अधिकारियों ने शुक्रवार को दी। अधिकारियों ने इसमें किसी नागरिक के हताहत होने से इंकार किया है। रक्षा मंत्रालय ने पूर्वी अफगानिस्तान में गुरुवार को हुए हमले के संबंध में कहा, “बम हमले के परिणामस्वरूप IS (आईएस) ठिकाने और सुरंग परिसर नष्ट हो गया और आईएस के 36 आतंकवादी मारे गए।”

गौरतलब है कि यूएस ने गुरुवार (13 अप्रैल) को अफगानिस्तान पर GBU-43 बम गिराया था। यह सबसे बड़ा गैर परमाणु बम था, जिसे ‘मदर ऑफ ऑल बम’ के नाम से भी जाना जाता है। अमेरिका ने कहा था कि वह बम आईएस पर निशाना बनाते हुए गिराया गया था। अमेरिका के मुताबिक, आईएस के लड़ाके जिन सुरंगों में छिपते थे उनको निशाना बनाया गया था। बम का वजन 9,797 किलो बताया गया। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि उन्होंने अफगानिस्तान में बम गिराए जाने की अनुमति दी थी और उन्होंने इस अभियान को अत्यंत सफल करार दिया। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा, यह वास्तव में एक सफल अभियान रहा। हमें हमारी सेना पर गर्व है।

जानिए ‘मदर ऑफ ऑल बम’ की खासियत

इसका वजन 21,600 पाउंड था। इसको जीपीएस की मदद से निशाने तक पहुंचाया गया।
अमेरिका ने पहली बार MOAB बम का इस्तेमाल किया गया है।
इसको सबसे पहली बार 2003 में टेस्ट किया गया था।
इस बम को यूएस मिलिट्री के अल्बर्ट वेईमोर्ट्स ने बनाया था।
इसके बाद ही रूस की तरफ से ‘फॉदर ऑफ ऑल बम’ बनाया गया था। जिसको MOAB से चार गुना ज्यादा शक्तिशाली बताया जाता है।

अफगानिस्तान पर अमेरिका द्वारा किए गए बम हमले पर ट्रंप ने कहा- "अमेरिकी सेना पर है गर्व"

सीरिया में हुआ केमिकल हमला; 100 से ज्यादा लोगों की मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App