ताज़ा खबर
 

एडमिशन दिए जाने के बाद 25 भारतीय छात्रों को अमेरिकी यूनिवर्सिटी से निकाला, कहा- पूरे नहीं करते मानक

इस कदम की वजह से छात्र या तो भारत वापस लौटने को मजबूर होंगे या उन्हें अमेरिका में किसी अन्य विश्वविद्यालय या पाठ्यक्रम की तलाश करनी होगी।

Author June 7, 2016 5:26 PM
यूनिवर्सिटी ने छात्रों को जुटाने के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की मदद ली थी जिन्होंने विज्ञापन के जरिए छात्रों को लुभाया। (Photo Source: wikipedia.org)

वेस्टर्न केन्टकी यूनिवर्सिटी के 60 में से कम से कम 25 भारतीय स्नातक छात्रों से पहले सेमेस्टर के बाद कम्प्यूटर विज्ञान की अपनी पढाई छोड़ने को कहा गया। यूनिवर्सिटी का कहना है कि वे इसके प्रवेश मानकों को पूरा नहीं करते। इस कदम की वजह से छात्र या तो भारत वापस लौटने को मजबूर होंगे या उन्हें अमेरिका में किसी अन्य विश्वविद्यालय या पाठ्यक्रम की तलाश करनी होगी। पिछले साल गर्मियों में आक्रामक भर्ती अभियान के बाद इन छात्रों का जनवरी में नामांकन हुआ था और उन्हें शिक्षा शुल्क में छूट जैसे प्रलोभन दिये गये थे।

Read Also: अमेरिका में फायरिंग: यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर को मारकर खुद को गोली मारने वाले की हुई पहचान, मैनक सरकार है नाम

यूनिवर्सिटी ने छात्रों को जुटाने के लिए अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की मदद ली थी जिन्होंने विज्ञापन के जरिए छात्रों को लुभाया और इसके लिए उन्हें यूनिवर्सिटी से प्रति छात्र की दर से राशि भी अदा की गई थी।

यूनिवर्सिटी के कम्प्यूटर विज्ञान पाठ्यक्रम के चेयरमैन जेम्स गैरी ने कहा था कि ‘लगभग 40’ छात्र उनके प्रवेश के लिए जरूरी मापदंडों को पूरा नहीं करते। हालांकि छात्रों को विश्वविद्यालय द्वारा उपचारात्मक मदद की पेशकश की गई है।‘न्यूयार्क टाइम्स’ ने उनके हवाले से कहा कि कुछ छात्रों को पाठ्यक्रम में बने रहने की अनुमति होगी, जबकि करीब 60 में से 25 छात्रों को पाठ्यक्रम छोड़ना होगा।

Read Also: मोरक्‍को: अंसारी के कार्यक्रम में यूनिवर्सिटी ने भारतीय नक्‍शे में दिखाया पाकिस्‍तान, विरोध के बाद चिपका दिया टेप 

उन्होंने कहा कि छात्रों को विषय में बने रहने की अनुमति देना ‘‘अच्छा धन गलत जगह लगाने जैसा’’ होगा क्योंकि वे कम्प्यूटर प्रोग्राम के बारे में लिखने में असमर्थ हैं जो पाठ्यक्रम का जरूरी हिस्सा है। इस बीच, वेस्टर्न केन्टकी विश्वविद्यालय के भारतीय छात्र संघ के चेयरमैन आदित्य शर्मा ने छात्रों के भविष्य को लेकर चिंता जताई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App