2016 small but Big Issue: Isaac Newton Principia Mathematica - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सुर्खियां 2016: बड़ी न होते हुए भी इन खबरों ने खींचा ध्यान

सर आइजैक न्यूटन के मशहूर गति के तीन नियमों समेत उनके मौलिक काम को खुद में समाहित करने वाली एक पुस्तक ‘प्रिंसिपिया मैथेमेटिका’ को दिसंबर में न्यूयार्क में एक नीलामी में 37 लाख डॉलर में बेचा गया।

Author नई दिल्ली | December 28, 2016 1:22 PM
प्रिंसिपिया मैथेमेटिका में न्यूटन के गति के तीन नियमों की व्याख्या की गई है। (फाइल फोटो)

यकीन नहीं होता कि न्यूटन के गति संबंधी तीन नियमों वाली किताब 37 लाख डॉलर में बिकी या कहा जाए कि अगले साल तीन माता पिता वाले बच्चे पैदा होंगे। 2016 में कुछ ऐसी खबरें भी आईं, जो बहुत बड़ी तो नहीं थीं लेकिन उन पर नजर ठहर जरूर गई। सर आइजैक न्यूटन के मशहूर गति के तीन नियमों की व्याख्या समेत उनके मौलिक काम को खुद में समाहित करने वाली एक पुस्तक ‘प्रिंसिपिया मैथेमेटिका’ को इसी माह न्यूयार्क में एक नीलामी में 37 लाख डॉलर में बेचा गया। यह किसी नीलामी में बेची गई अब तक की सबसे महंगी मुद्रित वैज्ञानिक किताब है। ‘प्रिंसिपिया मैथेमेटिका’ 1687 में लिखी गई थी। मशहूर भौतिकविद अल्बर्ट आइंस्टीन ने इसे ‘संभवत: ऐसी सबसे बड़ी बौद्धिक छलांग करार दिया था, जिसे भरने का मौका शायद ही किसी व्यक्ति को मिला हो।’ बोली लगाने वाले एक अनाम व्यक्ति ने इसे लगभग 3,719,500 डॉलर में खरीद लिया।

प्रिंसिपिया मैथेमेटिका में न्यूटन के गति के तीन नियमों की व्याख्या की गई है। इसमें बताया गया है कि किस तरह से चीजें बाहरी बलों के प्रभाव में गति करती हैं। भौतिकी के छात्र आज भी इन नियमों का इस्तेमाल करते हैं। लाल रंग की इस किताब की लंबाई नौ इंच और चौड़ाई सात इंच है। इसमें 252 पत्तियां (पृष्ठ) हैं। इनमें कई पन्नों पर लकड़ी के चित्र भी हैं। किताब में एक मुड़ सकने वाली प्लेट भी है। ‘तीन माता पिता वाले बच्चे’…. सुनने में यह अजीब लगता है लेकिन ब्रिटेन के प्रजनन नियामक प्राधिकरण ने ऐतिहासिक फैसले में इस साल एक विवादित तकनीक को मंजूरी दे दी, जिसके बाद अगले वर्ष से देश में ‘तीन माता-पिता’ वाले बच्चे पैदा हो सकेंगे।

ब्रिटेन में प्रजनन नियामक ‘ह्यूमन फर्टिलाइजेशन एंड एम्ब्रायोलॉजी आॅथोरिटी’ (एचएफईए) ने तीन लोगों के आइवीएफ को मंजूरी दे दी है। इस तकनीक के माध्यम से बच्चे में जानलेवा घातक अनुवांशिक बीमारियों को आने से रोका जा सकेगा। दो महिलाओं और एक पुरुष से बने ऐसे पहले बच्चे अगले वर्ष जन्म लेंगे। इस तकनीक का प्रयोग कर जन्म लेने वाले बच्चों में अपने माता-पिता के जीन के अलावा तीसरी मां के डीएनए का कुछ हिस्सा होगा। नियमों के अनुसार, इस दुर्लभ प्रक्रिया को अपनाने से पहले प्रत्येक क्लिनिक और प्रत्येक मरीज को प्राधिकरण से अनुमति लेनी होगी।

मरीज के सिर और चेहरे की बड़ी खामियों को दूर करने के लिए वैज्ञानिकों ने पहली बार प्रयोगशाला में असली हड्डी (लिविंग बोन) विकसित की है। इस कदम को क्रेनियोफेशियल खामियों से ग्रस्त मरीजों के इलाज की दिशा में महत्वपूर्ण प्रयास माना जा रहा है। कोलंबिया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर गोरदाना वांजुक नोवाकोविक द्वारा विकसित नई तकनीक में मरीज के वसा के छोटे से नमूने से बनाए गए आॅटोलॉगस स्टेम कोशिकाओं का उपयोग किया गया है और वह बिल्कुल वास्तविक हड्डी की संरचना से मेल खाता है।

ब्रिटेन में चेस्टरफील्ड की रहने वाली 28 वर्षीय सामंथा व्राग को जब पता चला कि उसका पति उसे धोखा दे रहा है तो उससे तलाक लेने के लिए और इस प्रक्रिया में होने वाला खर्च जुटाने के लिए उसने अगस्त में अपनी शादी के 2,000 ब्रिटिश पाउंड के डिजाइनर जोड़े को बिक्री के लिए ईबे पर डाल दिया। सामंथा व्राग ने यह ड्रेस अगस्त 2014 में अपनी शादी पर पहनी थी। कुल 2,000 पाउंड की इस ड्रेस के लिए उन्होंने 500 ब्रिटिश पाउंड से बोली शुरू की। लोगों की अपने मोबाइल फोन पर अत्यधिक निर्भरता बताने के लिए अमेरिका के लॉस एंजिलिस शहर में रहने वाले कलाकार-निर्देशक ऐरॉन चेर्वेनाक ने जून में लास वेगास के एक चर्च में अपने स्मार्टफोन से शादी कर ली। चेर्वेनाक लास वेगास की पारंपरिक शादी करने के लिए लॉस एंजिलिस से 365 किलोमीटर का सफर तय कर लास वेगास गए। जहां ऐरॉन सूट बूटे पहने थे वहीं उनकी दुल्हन यानि मोबाइल फोन एक प्रोटेक्टिव केस में रखा था। ऐरॉन ने लास वेगास चैपल पादरी के विवाह पश्चात अपनी पत्नी को खुश रखने संबंधी सवालों का सकारात्मक जवाब दिया।

चीन के एक संग्राहक ने पेरिस में हुई नीलामी में 18वीं सदी की हथेली के आकार की चीनी शाही मुहर को रेकॉर्ड 2.2 करोड़ डॉलर में खरीद लिया। यह मुहर की आंकी गई कीमत से 20 गुना से भी ज्यादा है। लाल और सफेद शैलखड़ी से बनी यह मुहर चीन पर सबसे लंबी अवधि तक शासन करने वाले सम्राट क्विआनलोंग की सैकड़ों मुहरों में से एक है। फेरारी की 1950 के दशक में बनी कार के लिए फरवरी में पेरिस की एक नीलामी में रेकॉर्ड 3.2 करोड़ यूरो की बोली लगी। 1957 में बनी 335 एस स्पाइडर रेस कार की कीमत 2.8 करोड़ यूरो लगी जबकि कर सहित कुल कीमत 3.2 करोड़ यूरो रही। पिछला रेकॉर्ड 1962 में बनी एक फेरारी का ही था जिसके लिए 2014 में 2.89 करोड़ यूरो की बोली लगी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App