ताज़ा खबर
 

अंक ज्योतिष शास्त्र: खोई हुई वस्तु का इन तरीकों से लगा सकते हैं पता

अगर 9 से भाग देने पर अंक 6 बचे तो ऐसे लोगों की खोई हुई वस्तु दक्षिण पूर्व दिशा में या फिर रसोई में मिल सकती है। यह भी हो सकता है कि यह लोग किसी को अपनी वस्तु देकर भूल गये हों।

खोई हुई वस्तुओं का अंक ज्योतिष के माध्यम से पता कर सकते हैं।

अंक ज्योतिष शास्त्र से किसी भी व्यक्ति के भविष्य ही नहीं बल्कि खोई हुई वस्तुओं के बारे में भी पता लगाया जा सकता है। इससे आपको इस बात की जानकारी मिल सकती है कि अमुक वस्तु आपकी कहां हो सकती है। जब आप किसी खोई हुई वस्तु का पता लगाना चाहते हों तो उसके लिए सबसे पहले अपने मन में  1 से 108 तक कोई भी अंक सोच लीजिए। फिर सोचे हुए अंक को 9 से भाग कर देना है। इसके बाद जो अंक शेष बचेगा फिर उस अंक से आपकी खोई हुई वस्तु की जानकारी मिल जाएगी…

– उदाहरण के तौर पर 19 को 9 से भाग देने पर 1 शेष बचता है। अंक शास्त्र में 1 अंक सूर्य का अंक माना जाता है। जिस प्रकार सूर्य प्रतिदिन अपने समय अनुसार निकलता है उसी प्रकार आपकी खोई हुई वस्तु किसी रोजाना के रूटीन में या फिर पूर्व दिशा की और मिलेगी।

–  अगर सोचे हुए अंक को 9 से भाग देने पर शेष 2 बचता है तो आपकी वह चीज घर की किसी स्त्री के पास हो सकती है। जिसके वापस मिलने के आसार कम ही होते हैं।

– अगर शेष अंक 3 बचे तो वह वस्तु परिवार के किसी सदस्य या किसी खास मित्र के पास मिल सकती है। 3 अंक को गुरु का अंक माना जाता है।

– शेष अंक 4 बचने पर आपकी वस्तु मिलने के कोई चान्स नहीं होते हैं। क्योंकि यह वस्तु आपकी लापरवाही के कारण खोई होती है।

– शेष 5 बचने पर आपकी वस्तु वापस तो मिलेगी लेकिन इसमे समय काफी लग सकता है। इसके लिए आपको धैर्य रखते हुए बुद्धि से काम लेना पड़ेगा।

– अगर 9 से भाग देने पर अंक 6 बचे तो ऐसे लोगों की खोई हुई वस्तु दक्षिण पूर्व दिशा में या फिर रसोई में मिल सकती है। यह भी हो सकता है कि यह लोग किसी को अपनी वस्तु देकर भूल गये हों।

– 7 अंक शेष बचने पर वस्तु मानसिक परेशानियों को झेलने के बाद वापस मिलती है।

– 8 अंक शेष बचने पर वस्तु मिलने के कम ही आसार होते हैं। 8 अंक शनि का होता है। हो सकता है आपकी वस्तु किसी चोर के हाथ लग गई हो।

– अगर आपके द्वारा सोचे हुए अंक से 9 या 0 बचता है तो आपकी खोई हुई वस्तु आज ही मिल सकती है। लेकिन आज के बाद उस वस्तु का मिलना मुश्किल हो सकता है।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और लिंक्ड इन पर जुड़ें

First Published on May 15, 2019 3:44 pm

More on this story