ताज़ा खबर
 

कार्तिक मास में क्यों महत्वपूर्ण हैं तुलसी पूजा, जानिए पूजा करने का तरीका

तुलसी के पत्तों में रोग-प्रतिरोधक क्षमता पाई जाती है। इसके नियमित सेवन से सर्दी-जुकाम, फ्लू जैसी परेशानिया नहीं होतीं हैं। साथ ही गंभीर बीमारियों में भी इसका काफी लाभ देखा गया है।

भगवान विष्णु को तुलसी प्रिय बनाने का श्रेय भगवान गणेश को जाता है।

सनातन परंपरा ने जड़-चेतन सबमें ईश्वर की भावना की है। नदियां, पहाड़, पत्थर, पेड़-पौधों में ईश्वर का वास है। पौधों में देवियों और देवताओं का वास कहा जाता है। पौधों के अंदर नकारात्मक ऊर्जा नष्ट करने की क्षमता होती है। तुलसी के पौधों को बहुत पवित्र माना जाता है। तुलसी के पौधे में औषधीय और दैवीय गुण पाए जाते हैं। पुराणों में तुलसी को भगवान विष्णु की पत्नी कहा गया है। भगवान विष्णु ने छल से इनका वरण किया था। इसलिए उनको पत्थर हो जाने का श्राप मिला। तभी से भगवान विष्ण शालिग्राम के रूप में पूजे जाने लगे। शालिग्राम की पूजा बिना तुलसी के नहीं हो सकती है।

तुलसी का वैज्ञानिक महत्व – तुलसी के पत्तों में रोग-प्रतिरोधक क्षमता पाई जाती है। इसके नियमित सेवन से सर्दी-जुकाम, फ्लू जैसी परेशानिया नहीं होतीं हैं। साथ ही गंभीर बीमारियों में भी इसका काफी लाभ देखा गया है। तुलसी के बीज संतान उत्पत्ति की समस्याओं में कारगर होते हैं। जहां भी तुलसी लगती है उसके आसपास सकारात्मक ऊर्जा होती है।

कैसे करें तुलसी पूजा – तुलसी का पौधा किसी भी बृहस्पतिवार को लगा सकते हैं। कार्तिक का महीना तुलसी का पौधा लगाने के लिए सर्वोत्तम माना जाता है। कार्तिक महीने में तुलसी के पौधे की पूजा करें। तुलसी का पौधा विवाह की सारी मनोकामनाओं को पूरा कर सकता है। तुलसी का पौधा घर या आंगन के बीचोंबीच लगाना चाहिए। प्रात:काल तुलसी में जल डालकर परिक्रमा करनी चाहिए। नियमित रूप से शाम में घी का दीपक जलाना सर्वोत्तम होता है।

 

 

तुलसी पूजा की सावधानियां- तुलसी के पत्ते हमेशा प्रात: काल ही तोड़ने चाहिए। रविवार के दिन तुलसी के नीचे दीपक ना जलाएं। भगवान विष्णु और इनके अवतारों को तुलसीदल अर्पित करें। भूलकर भी भगवान गणेश और मां दुर्गा को तुलसी अर्पित ना करें।  तुलसी के पुराने पत्तों को पूजा में प्रयोग किया जा सकता है।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on October 28, 2018 3:27 pm