ताज़ा खबर
 

नवरात्र पूजा में इन चार अलग-अलग तरीकों से लौंग का इस्तेमाल करते हैं लोग

नवरात्र के पूजन में कई तरह की सामग्री का प्रयोग किया जाता है जिनमें लौंग का खास महत्व माना गया है। जहां लौंग को सेहत के लिए लाभकारी माना गया है तो वहीं इससे कुछ धर्मिक मान्यताएं भी जुड़ी है।

जानिए नवरात्र में लौंग के प्रयोग करने का क्या है महत्व

नवरात्र के पूजन में कई तरह की सामग्री का प्रयोग किया जाता है जिनमें लौंग का खास महत्व माना गया है। जहां लौंग को सेहत के लिए लाभकारी माना गया है तो वहीं इससे कुछ धर्मिक मान्यताएं भी जुड़ी है। खासकर नवरात्र के पूजन में लोग लौंग का इस्तेमाल जरूर करते हैं। ज्योतिष अनुसार माता के भोग में लौंग का होना उस पूजा और भोग को पूर्णता प्रदान करता है। लौंग को प्रसाद के रूप में ग्रहण करने से भक्तों पर देवी मां की कृपा बनती है। साथ ही लौंग को देवी की प्रिय वस्तु भी माना गया है। ज्योतिष के अनुसार इससे जुड़े कुछ उपायों को करने से दुर्भाग्य का नाश होता है। क्या हैं वो उपाय जानते हैं:

– सबसे पहले तो नवरात्र पूजा में लौंग का इस्तेमाल करते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि वो लौंग पूरी तरह से साबुत हों।

– रुके हुए काम को पूरा करने के लिए पान के पत्ते में दो लौंग डालकर माता को समर्पित करें। इससे आपके काम में आ रही बाधा दूर हो सकती है।

– नवरात्र में माता की आरती करते समय कपूर मे दो लौंग डालकर जलाएं इससे आपकी आर्थिक समस्या दूर हो सकती है।

– अविवाहित लोग जिनकी शादी में रूकावट आ रही है उनके लिए भी लौंग हितकारी साबित हो सकती है। उपाय के लिए अपनी उम्र के बराबर लौंग लेकर किसी पीले या लाल कपड़े में बांधकर एक माला बना लें और फिर उसे नवरात्र के किसी भी दिन माता को अर्पित करें इससे आपको लाभ मिलेगा। ध्यान रखें कि पुरुष माता के चरणों में और महिला माता के गले में माला पहनाएं। नवरात्र समाप्त होने के बाद बहते जल में इस माला प्रवाहित कर दें।

– सफलता पाने के लिए एक लौंग जलते हुए कपूर में डाल दें। फिर उसकी राख को अपने माथे या गले पर लगा लें। इससे आप जिस भी काम को करने के लिए जाएंगे उसमें सफलता मिलने की संभावना बढ़ जाएगी।

 

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on April 11, 2019 11:36 am

More on this story