ताज़ा खबर
 

पौष महीने के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए आजमाएं ये सरल उपाय

पौष माह में सोमवार को शिव जी की पूजा करनी चाहिए साथ ही बेलपत्र भी अर्पित करना चाहिए।

ग्रहों में सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए रविवार का व्रत किया जाता है।

मार्गशीर्ष महीना समाप्त हो गया है और 4 दिसंबर से पौष महीना शुरू हो गया है। यह महीना बहुत ही अशुभ माना जाता है। इसी महीने धनु मलमास भी होगा। इसमें कोई भी शुभ काम करने की मनाही होती है। इसे खरमास भी कहा जाता है। कहा जाता है कि इस महीने में सूर्य ग्यारह हजार किरणों के साथ इंसान को ऊर्जा और स्वास्थ्य देता है। पौष के महीने में अगर सूर्य की नियमित उपासना की जाए तो सालभर व्यक्ति स्वस्थ और संपन्न रहता है।

पौष मास में परेशानियों से कैसे बचें – अरहर की दाल और चावल की खिचड़ी में घी डालकर दान करें। इस महीने लाल कपड़े पहनें। पौष महीने में नया काम शुरू नहीं करने चाहिए। अगर ऐसे में कोई जरूरत पड़े तो उस काम को कुछ उपाय कर किया जा सकता है। आइए जानते हैं ।

सोमवार को शिव जी की पूजा करें और बेलपत्र अर्पित करें। बेलपत्र की जड़ या लकड़ी को लाल धागे में गले में धारण करें। तांबे का बर्तन दान करें। पौष माह में नौकरी, व्यापार में दिक्कत आती है। इस महीने कोई भी नया काम शुरू नहीं करना चाहिए। इसके उपाय के लिए इस माह शिव जी को गुड़ और जल चढ़ाएं, लाल अनार दान करें।

इस महीने ज्ञान वृद्धि के लिए सूर्यदेव को गुड़हल के फूल चढ़ाएं। मान-सम्मान पाने के लिए कर्पूर ओर केसर सूर्य को अर्पित करें। इसके अलावा ऑफिस में तरक्की पाने के लिए पानी में लाल चंदन मिलाकर सूर्य देव को अर्पित करें। इससे तरक्की के योग बन सकते हैं।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on December 4, 2017 3:57 pm

  1. No Comments.