ताज़ा खबर
 

ये लक्षण बताते हैं आप मांगलिक हैं या नहीं, जानिए कैसे दूर करें दोष

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मांगलिक दोष होने से शादी में देरी या अड़चने आती है।

जिन लोगों की कुंडली में मगंल दोष हो उन्हें हनुमानजी की रोजाना पूजा करनी चाहिए।

किसी व्यक्ति की शादी से पहले उसकी कुंडली देखकर यह पता किया जाता है कि वह मांगलिक तो नहीं है। लड़का या लड़की का मांगलिक होना अशुभ माना जाता है। कुंडली में यह दोष मंगल ग्रह की उग्र दशा के कारण होता है। यदि इंसान की कुंडली के उग्र मंगल 1, 2, 4, 7, 8 या 12वें भाव में हो तो इसका प्रभाव हानिकारक होता है। इसी प्रकार की कुंडली को मांगलिक दोष युक्त कही जाती है। मांगलिक होने पर शादी होने में काफी परेशानी होती है। मंगल दोष से व्यक्ति पर वित्तीय नुकसान जैसे अन्य प्रभाव भी हो सकते है। व्यक्ति में ऊर्जा को गतिशील बनाये रखने के लिए इस दोष के असर को कम करना बहुत जरुरी है।

मांगलिक होने के लक्षण- मंगल ग्रह का आंखों को प्रभावित करता है। मांगलिक व्यक्ति की पुतलियां उपर की ओर झुकी होती है। बच्चे पैदा करने में दिक्कत आती है। मांगलिक होने पर एक आंख से दिखना बंद हो जाता है। शरीर में खून की कमी आ जाती है। जोड़ ठीक से काम नहीं करते हैं। मंगल के साथ केतु हो तो अशुभ माना जाता है। मंगल के साथ बुध हो तो इसका प्रभाव बहुत गलत होता है।

उपाय – जिन लोगों की कुंडली में मगंल दोष हो उन्हें हनुमानजी की रोजाना पूजा करनी चाहिए। सफेद रंग का सूरमा आंखों में डालना चाहिए। घर से बाहर गुड़ खाकर निकलें। गुस्से पर काबू रखना चाहिए। अपने से बड़ों का सम्मान करना चाहिए। ज्योतिष के अनुसार व्यक्ति के मंगल प्रभाव को केले/ पीपल के पेड़ के साथ विवाह कर के समाप्त किया जा सकता है।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on December 4, 2017 5:05 pm