ताज़ा खबर
 

व्‍यक्ति के बारे में बहुत कुछ बताता है उसका हस्‍ताक्षर, देखकर इस तरह लगाएं पता

जो लोग हस्ताक्षर करते समय पहला अक्षर थोड़ा बड़ा और उसके बाद पूरा उपनाम लिखते हैं वे अद्धभुत प्रतिभा के धनी होते हैं।

जो लोग हस्ताक्षर के नीचे लाइन खींचते हैं उनके अंदर असुरक्षा की भावना अधिक होती है

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक किसी इंसान के हस्ताक्षर से उसके व्यक्तित्व को पहचाना जा सकता है। हस्ताक्षर से व्यक्ति की सोच पता चल सकती है। हस्ताक्षर से किसी के सफल-असफल होने के बारे में भी पता चल सकता है। आइए जानते हैं हस्ताक्षर के बारे में क्या कहता है ज्योतिष शास्त्र-

1. अगर हस्ताक्षर के आखिरी में डॉट यानी बिंदु लगाएंगे तो इसका दूसरों पर गहरा असर होता है। जब हम कुछ लिखते हैं तो आखिर में डॉट लगाते हैं। इसी तरह अगर हस्ताक्षर के आखिर में डॉट लगाए तो इसका अर्थ होता है कि व्यक्ति कोई भी काम अधूरा नहीं छोड़ता है। इससे व्यक्ति के चरित्र के बारे में पता चलता है।

2. हस्ताक्षर के अंत में डॉट लगाने वाले लोगों को बहुत समझदार और जिम्मेदार माना जाता है। ये लोग अपना काम पूरी मेहनत के साथ करते हैं और अपनी जिम्मेदारियों से नहीं भागते हैं।

3. जो लोग हस्ताक्षर का पहला अक्षर बड़ा बनाते हैं। वे विलक्षण प्रतिमा के धनी माने जाते हैं। इनके काम करने का तरीका बहुत अलग होता है। पहला बड़ा अक्षर बनाने से हस्ताक्षर सुंदर दिखाई देता है।

4. जो लोग कलात्मक और आकर्षक हस्ताक्षर करते हैं वे बहुत क्रिएटिव होते हैं। ये लोग काम को बड़े क्रिएटिव तरीके से पूरा करते हैं।

5. जो लोग हस्ताक्षर को तोड़ मरोड़ या अलग-अलग टुकड़ों में करते हैं वे लोग अस्पष्ट होते हैं। जो किसी को जल्दी से समझ नहीं आते हैं। इनको चालाक माना जाता है। ये लोग अपनी बात किसी को नहीं बताते हैं।

6. जो लोग हस्ताक्षर करते समय पहला अक्षर थोड़ा बड़ा और उसके बाद पूरा उपनाम लिखते हों वे अद्धभुत प्रतिभा के धनी होते हैं। ये जीवन में सभी सुख प्राप्त करते हैं।

7. जो लोग हस्ताक्षर के नीचे लाइन खींचते हैं उनके अंदर असुरक्षा की भावना अधिक होती है। ऐसे लोग को किसी कार्य में असफल होने का खतरा होता है।

8. जिन लोगों के हस्ताक्षर एक जैसी लय में नहीं होते वे मानसिक रुप से अस्थिर होते हैं।

9. जिन लोगों के हस्ताक्षर कटे हुए होते हैं वे नेगिटिव विचार वाले होते हैं। इन्हें किसी भी काम में असफलता पहले नजर आती है।

ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट, एनालिसिस, ब्‍लॉग के लिए फेसबुक पेज लाइक, ट्विटर हैंडल फॉलो करें और गूगल प्लस पर जुड़ें

First Published on December 6, 2017 3:42 pm

  1. No Comments.